दिल ही तो है न संग-ओ-ख़िशत | मिर्ज़ा ग़ालिब | हिंदी शायरी

%d bloggers like this: