कोशिश करने वालों की हार नहीं होती | त्राहि, त्राहि कर उठता जीवन | इतने मत उन्‍मत्‍त बनो | हरिवंशराय बच्चन | हिंदी कविता

नमस्कार दोस्तों! आज मैं फिर से आपके सामने तीन हिंदी कवितायें (Hindi Poems) कोशिश करने वालों की हार नहीं होती”, “त्राहि, त्राहि कर उठता जीवन और इतने मत उन्‍मत्‍त बनो लेकर आया हूँ और इन तीनो कविताओं को हरिवंशराय बच्चन (Harivansh Rai Bachchan) जी ने लिखा है. 

आशा करता हूँ कि आपलोगों को यह कविता पसंद आएगी. अगर आपको और हिंदी कवितायेँ पढने का मन है तो आप यहाँ क्लिक कर सकते हैं (यहाँ क्लिक करें).

कोशिश करने वालों की हार नहीं होती | त्राहि, त्राहि कर उठता जीवन | इतने मत उन्‍मत्‍त बनो | हरिवंशराय बच्चन | हिंदी कविता

कोशिश करने वालों की हार नहीं होती – हरिवंशराय बच्चन – हिंदी कविता

लहरों से डर कर नौका पार नहीं होती
कोशिश करने वालों की हार नहीं होती

नन्हीं चींटी जब दाना लेकर चलती है
चढ़ती दीवारों पर, सौ बार फिसलती है
मन का विश्वास रगों में साहस भरता है
चढ़कर गिरना, गिरकर चढ़ना न अखरता है
आख़िर उसकी मेहनत बेकार नहीं होती
कोशिश करने वालों की हार नहीं होती

डुबकियां सिंधु में गोताखोर लगाता है
जा जा कर खाली हाथ लौटकर आता है
मिलते नहीं सहज ही मोती गहरे पानी में
बढ़ता दुगना उत्साह इसी हैरानी में
मुट्ठी उसकी खाली हर बार नहीं होती
कोशिश करने वालों की हार नहीं होती

असफलता एक चुनौती है, स्वीकार करो
क्या कमी रह गई, देखो और सुधार करो
जब तक न सफल हो, नींद चैन को त्यागो तुम
संघर्ष का मैदान छोड़ मत भागो तुम
कुछ किये बिना ही जय जय कार नहीं होती
कोशिश करने वालों की हार नहीं होती

त्राहि, त्राहि कर उठता जीवन – हरिवंशराय बच्चन – हिंदी कविता

त्राहि, त्राहि कर उठता जीवन!

जब रजनी के सूने क्षण में,
तन-मन के एकाकीपन में
कवि अपनी विव्हल वाणी से अपना व्याकुल मन बहलाता,
त्राहि, त्राहि कर उठता जीवन!

जब उर की पीडा से रोकर,
फिर कुछ सोच समझ चुप होकर
विरही अपने ही हाथों से अपने आंसू पोंछ हटाता,
त्राहि, त्राहि कर उठता जीवन!

पंथी चलते-चलते थक कर,
बैठ किसी पथ के पत्थर पर
जब अपने ही थकित करों से अपना विथकित पांव दबाता,
त्राहि, त्राहि कर उठता जीवन!

इतने मत उन्‍मत्‍त बनो – हरिवंशराय बच्चन – हिंदी कविता

इतने मत उन्‍मत्‍त बनो!

जीवन मधुशाला से मधु पी
बनकर तन-मन-मतवाला,
गीत सुनाने लगा झूमकर
चुम-चुमकर मैं प्‍याला-
शीश हिलाकर दुनिया बोली,
पृथ्‍वी पर हो चुका बहुत यह,
इतने मत उन्‍मत्‍त बनो.

इतने मत संतप्‍त बनो.
जीवन मरघट पर अपने सब
आमानों की कर होली,
चला राह में रोदन करता
चिता-राख से भर झोली-
शीश हिलाकर दुनिया बोली,
पृथ्‍वी पर हो चुका बहुत यह,
इतने मत संतप्‍त बनो.

इतने मत उत्‍तप्‍त बनो.
मेरे प्रति अन्‍याय हुआ है
ज्ञात हुआ मुझको जिस क्षण,
करने लगा अग्नि-आनन हो
गुरू-गर्जन, गुरूतर गर्जन-
शीश हिलाकर दुनिया बोली,
पृथ्‍वी पर हो चुका बहुत यह,
इतने मत उत्‍तप्‍त बनो.

Conclusion

तो उम्मीद करता हूँ कि आपको हमारा यह हिंदी कविताकोशिश करने वालों की हार नहीं होती”, “त्राहि, त्राहि कर उठता जीवन और इतने मत उन्‍मत्‍त बनोअच्छा लगा होगा जिसे हरिवंशराय बच्चन (Harivansh Rai Bachchan) जी ने लिखा है. आप इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और हमें आप Facebook Page, Linkedin, Instagram, और Twitter पर follow कर सकते हैं जहाँ से आपको नए पोस्ट के बारे में पता सबसे पहले चलेगा. हमारे साथ बने रहने के लिए आपका धन्यावाद. जय हिन्द.

Image Source

Pixabay: [1]

इसे भी पढ़ें

Leave a Reply

%d bloggers like this: