SEO दिशानिर्देश (SEO Guidelines)

नमस्कार दोस्तों जैसा आपको title पढ़ कर पता चल ही गया होगा कि हम किसके बारे में बात करने जा रहे हैं. जी हाँ, आज हम SEO दिशानिर्देश (SEO Guidelines) के बारे में बात करने जा रहे हैं जिसमें आपको पता चलेगा कि SEO दिशानिर्देश क्या है (What is SEO Guidelines), इसी में हम वेबसाइट डिजाईन SEO गाइडलाइन्स (Website Design SEO Guidelines), कंटेंट ऑप्टिमाइजेशन (Content Optimization), और SEO डिजाईन और लेआउट (SEO Design and Layout) के बारे में भी विस्तार में जानेंगे.

तो इसी के साथ शुरू करते हैं आज का पोस्ट जिसका नाम है- “SEO दिशानिर्देश (SEO Guidelines)” और अगर आपको SEO से सम्बंधित ब्लॉग पढने में अच्छा लगता है तो आप इस लिंक पर क्लिक करके और भी पोस्ट पढ़ सकते हैं. (Click Here)

SEO दिशानिर्देश (SEO Guidelines)
SEO दिशानिर्देश (SEO Guidelines)

SEO दिशानिर्देश (SEO Guidelines)

वेबसाइट डिजाईन SEO गाइडलाइन्स (Website Design SEO Guidelines)

Content Guidelines

किसी वेबसाइट की सफलता मुख्य रूप से उस quality content पर निर्भर करती है जो वह अपने visitors को प्रदान करती है. SEO में, quality content एक ऐसी content को संदर्भित करती है जो न केवल पाठकों को बल्कि सर्च इंजन को भी आकर्षित करती है.

Quality content बनाने के लिए कुछ महत्वपूर्ण दिशानिर्देश (Some important guidelines to create quality content)

SEO दिशानिर्देश (SEO Guidelines)

जैसा कि हम जानते है quality content हमारे वेबसाइट या ब्लॉग के लिए कितना जरुरी है. इसलिए Quality content बनाने के लिए कुछ महत्वपूर्ण दिशानिर्देश आपको निचे बताया है.

सबसे अच्छी कीवर्ड चुनें (Choose the best keyword)

आपके pages में आपके product, services या concept से संबंधित कीवर्ड होने चाहिए क्योंकि सर्च इंजन को आपकी वेबसाइट की प्रकृति और प्रकार के बारे में कीवर्ड से पता चलता है. 

तदनुसार, सर्च इंजन संबंधित प्रश्नों के लिए आपकी वेबसाइट को result pages में रैंक करता है. इसलिए, content लिखना शुरू करने से पहले आपको एक कीवर्ड खोजना होगा जिससे आप अपने पोस्ट या वेबसाइट को रैंक करना चाहते हैं. 

आप Google Keyword Planner, Google Trends, SEMRUSH आदि जैसे विभिन्न कीवर्ड रिसर्च टूल की मदद ले सकते हैं.

ओरिजिनल या यूनिक कंटेंट (Original/unique content)

Relevant keyword शामिल करना पर्याप्त नहीं है; आपकी content Originalऔर unique होनी चाहिए. इसे किसी अन्य साइट से कॉपी नहीं किया जाना चाहिए नहीं तो आपकी वेबसाइट को सर्च इंजन द्वारा penalized किया जाएगा.

पर्याप्त शब्द हों (Have Enough Words)

आपके webpages में पर्याप्त शब्द होने चाहिए. उन्हें बहुत सारी images, symbols और negative space से नहीं भरना चाहिए. कम content और अधिक images वाले pages को SEO के लिए अनुकूलित नहीं माना जाता है और शायद ही कभी सर्च इंजन के पहले page पर पाए जाते हैं.

कीवर्ड घनत्व ज्यादा नहीं होना चाहिए (The keyword density should not be high)

कीवर्ड स्टफिंग से बचें; keywords का अति प्रयोग पाठकों या खोज इंजन को खुश नहीं करता है, उन्हें content पढने में तब मजा नहीं आता है अगर सब जगह उन्हें सिर्फ कीवर्ड ही दिखाई देंगे. वे आपके इरादों को समझेंगे कि आप केवल रैंकिंग के बारे में चिंतित हैं, content की गुणवत्ता के बारे में नहीं. इसलिए, बेहतर परिणामों के लिए कीवर्ड घनत्व (keyword density) ज्यादा नहीं होना चाहिए.

छोटे पैराग्राफ होने चाहिए (There should be short paragraphs)

बड़े-बड़े पैराग्राफ उपयोगकर्ताओं को उतना आकर्षित नहीं करते हैं, इसलिए भले ही आपने relevant जानकारी प्रदान की हो, हो सकता है कि उपयोगकर्ता आपके pages को पढ़ भी न सकें. चार से पांच पंक्तियों तक सीमित पैराग्राफ के आकार को SEO के लिए सबसे बेस्ट माना जाता है. इस आपके pages या पोस्ट में छोटे पैराग्राफ होने चाहिए ना कि महा ग्रन्थ जैसे.

बुलेट और नंबरिंग (Bullets and numbering)

अधिकांश पाठकों का ध्यान आमतौर पर कम होता है और वे पूरे pages को पढ़ने के इच्छुक नहीं होते हैं. वे कम समय में सार्थक जानकारी प्राप्त करने के लिए बुलेट पॉइंट की तलाश करते हैं, इसलिए जब भी संभव हो crisp और संक्षिप्त बुलेट या नंबरिंग का उपयोग अपने pages को अधिक आकर्षक और पठनीय बनाने के लिए करें.

पोस्ट से मिलता जुलता लिंकिंग करें (Link to similar post)

आपकी content मिलते-जुलते pages से हाइपरलिंक की जानी चाहिए. यदि आपकी content किसी ऐसे pages से जुड़ी हुई है जो अलग-अलग जानकारी दे रहा है तो यह पाठकों को परेशान करेगा और आप अपनी विश्वसनीयता खो सकते हैं.

प्रूफ रीड कंटेंट (Proof read content)

यदि आपके पास अच्छा टाइपिंग कौशल या लेखन का अनुभव है, तो भी आप लिखते समय गलतियाँ कर सकते हैं. इसलिए, प्रकाशित करने से पहले अपनी content को कम से कम दो बार ध्यान से पढ़ें. यह आपकी content में सभी errors को समाप्त करने में आपकी सहायता करेगा.

कंटेंट ऑप्टिमाइजेशन (Content Optimization)

कंटेंट ऑप्टिमाइजेशन आपके webpages को search और उपयोगकर्ताओं के लिए अधिक आकर्षक बनाने की एक प्रक्रिया है. यह न केवल आपके pages में सर्वोत्तम कीवर्ड का उपयोग करने तक ही सीमित है, बल्कि आपकी वेबसाइट के विभिन्न अन्य हिस्सों जैसे content की quality, broken links, title tags, meta tags आदि पर भी ध्यान केंद्रित करता है.

एक बार आपकी content को अनुकूलित करने के बाद search engine आसानी से ढूंढ सकता है और अपनी वेबसाइट को index करें और इसे search results के first page में दिखाएं.

SEO दिशानिर्देश (SEO Guidelines)

बेहतर कंटेंट ऑप्टिमाइजेशन (Content Optimization) के लिए निम्नलिखित एरिया पर ध्यान दें (For better content optimization, pay attention to the following areas)

Title Tag: यह आपके pages या post के title को संदर्भित करता है जो किसी page के HTML कोड के शीर्ष में शामिल होता है. यह result page पर page के शीर्ष पर या जब आप सोशल मीडिया पर अपने page का प्रचार करते हैं तो दिखाई देता है. Title tag जो संक्षिप्त, सटीक और relevant हैं, कंटेंट ऑप्टिमाइजेशन (Content Optimization) के लिए सर्वश्रेष्ठ माने जाते हैं.

SEO विशेषज्ञों के अनुसार, एक आदर्श title tag 50 से 60 characters के बीच लंबा होना चाहिए, page पर content का सही वर्णन करना चाहिए और title tag की शुरुआत में targeted keywords होना चाहिए.

Meta description: यह वह जानकारी है जिसे Google result page पर title tags के तहत प्रदर्शित करता है. यह आपके page में निहित जानकारी का एक संक्षिप्त सारांश होता है; उपयोगकर्ताओं को page पर क्लिक करने से पहले उसका पूर्वावलोकन मिलता है. 

Meta description में relevent कीवर्ड होने चाहिए क्योंकि जब कोई उपयोगकर्ता उस कीवर्ड का उपयोग करके कोई क्वेरी करता है तो सर्च इंजन उसे descriptive text के रूप में हाइलाइट करता है.

बेहतर परिणामों के लिए रिक्त स्थान सहित अपने Meta description की लंबाई लगभग 150 characters को रखने का प्रयास करें. Meta description आपके द्वारा लिखा गया है और यदि आप Meta description नहीं लिखते हैं तो Google आपके page की content से Meta description तैयार करेगा.

Meta keywords: आप उन्हें खाली छोड़ सकते हैं क्योंकि 2009 से वे उपयोग में नहीं हैं. यदि आप उनका उपयोग करते हैं तो आपके competitors को आपके targeted keywords के बारे में सुराग मिल सकता है. आप उनका उपयोग कर सकते हैं यदि आपकी internal site search को उनकी आवश्यकता है.

Fresh content: ताज़ा और अनूठी content उपयोगकर्ताओं और सर्च इंजन दोनों को आकर्षित करती है, इसलिए अपनी content को अनुकूलित करने के लिए अपनी साइट को नियमित रूप से अपडेट करते रहें. Changes और updates को दर्शाने के लिए नए pages, articles या अपनी मौजूदा content को update करें.

SEO दिशानिर्देश (SEO Guidelines)

वेबसाइट का SEO डिजाइन और लेआउट (SEO Design and Layout of a Website)

किसी वेबसाइट का डिज़ाइन और लेआउट आकर्षक हो सकता है लेकिन यदि यह SEO के अनुकूल नहीं है, तो यह सर्च इंजन result pages में उच्च रैंकिंग प्राप्त नहीं कर सकता है. 

सर्च इंजन हमारे और visitors की तरह content की व्याख्या नहीं कर सकते; हो सकता है कि कोई webpage किसी सर्च इंजन के समान न दिखे जैसा कि वह आपको दिखता है. 

इसलिए, किसी वेबसाइट के डिजाइन और लेआउट के बारे में सोचना शुरू करने से पहले निम्नलिखित दिशानिर्देशों को ध्यान में रखें.

कीवर्ड प्लेसमेंट (Keyword Placement)

आपको targeted keywords और phrases का उपयोग पूरी साइट में सही स्थानों पर करना चाहिए, अर्थात body text, headlines, headers, meta description, links, आदि.

प्रत्येक page के लिए उचित कीवर्ड प्लेसमेंट महत्वपूर्ण है लेकिन यह home page पर अधिक महत्वपूर्ण है क्योंकि यह आपकी साइट के शेष pages का gateway और introduction है. 

साथ ही, लिंक के लिए उचित शब्दों का प्रयोग करें; “see more”, “read more” या “click here” का उपयोग करने के बजाय उन शब्दों का उपयोग करें जो स्वयं लिंक का वर्णन करते हैं.

नेविगेशन (Navigation)

नेविगेशन उपयोगकर्ता के अनुकूल होना चाहिए ताकि उपयोगकर्ता कम समय में सही जानकारी आसानी से प्राप्त कर सकें, अर्थात एक कदम से दूसरे चरण में जाना सरल और क्विक होना चाहिए.

आपकी साइट को अनुकूलित करने के लिए कुछ उपयोगी अभ्यास हैं;

  1. प्राइमरी नेविगेशन आपके page के title पर या उसके निकट होना चाहिए.
  2. वेब पेज के footer  में नेविगेशन विकल्प जोड़ें.
  3. उपयोगकर्ताओं को उनके नेविगेशन पथ के बारे में जागरूक करने के लिए प्रत्येक page पर breadcrumb जोड़ें.
  4. उपयोगकर्ताओं को कीवर्ड के आधार पर search करने में सक्षम बनाने के लिए अपने page के शीर्ष के पास एक सर्च बॉक्स जोड़ें.
  5. एक page पर सीमित नेविगेशन विकल्प और नेविगेशन में सीमित चरणों की पेशकश करें.
  6. प्रत्येक श्रेणी में वेबसाइट टेम्पलेट को modify न करें क्योंकि यह उपयोगकर्ताओं के लिए नेविगेशन को कठिन बना सकता है.

URL और फ़ाइल नाम (URL and File name)

URL को SEO ऑप्टिमाइज़ किया जाना चाहिए ताकि सर्च इंजन आसानी से इसकी पहचान कर सके. URL को ऑप्टिमाइज़ करने के कई तरीके हैं जैसे;

  1. URL में कीवर्ड शामिल करें ताकि यह स्पष्ट रूप से बता सके कि पेज पर क्या है
  2. उपयोगकर्ताओं के लिए कॉपी और पेस्ट करना आसान बनाने के लिए इसकी लंबाई कम से कम करें
  3. ऐसे URL का उपयोग न करें जिनमें random letters या numbers हों

और फ़ाइल नामों को अनुकूलित करने के लिए आप अपलोड किए गए आइटम, जैसे media, HTML, documents इत्यादि के फ़ाइल नामों में relevant keyword जोड़ सकते हैं.

साथ ही, आपको URL में शब्दों को अलग करने के लिए अंडरस्कोर, स्पेस या प्लस साइन के बजाय हाइफ़न (-) का उपयोग करना चाहिए.

इमेज (Image)

वेबसाइट image SEO का एक महत्वपूर्ण पहलू हैं और इन्हें तेजी से लोड करने और search engine visibility के लिए optimize किया जाना चाहिए. Images को Optimize करने के कुछ अभ्यास आपको निचे बताये गए हैं;

  1. Images का आकार छोटा होना चाहिए, अर्थात 30 से 100 kb का आकार और 72 dpi रिज़ॉल्यूशन वेबसाइट Images के लिए सही माने जाते हैं.
  2. Images को pages पर जानकारी के संदर्भ में रखा जाना चाहिए, अर्थात image के चारों ओर relevent content होनी चाहिए.
  3. Images के लिए उचित alt tag का उपयोग करें क्योंकि search engine केवल शब्दों को देख सकता है, Images को नहीं. इसलिए, “image” या “screenshot” जैसे alt tag का उपयोग करने के बजाय एक ऐसे phrase का उपयोग करें जिसमें एक कीवर्ड हो या image का वर्णन करता हो.

सिम्प्लिसिटी (Simplicity)

विज़िटर आपकी साइट पर कुछ कार्य पूरा करने या विशिष्ट जानकारी प्राप्त करने के लिए आते हैं, इसलिए अनावश्यक डिज़ाइन तत्वों से बचें जो विज़िटर के लिए किसी कार्य को पूरा करना या जानकारी ढूंढना कठिन बना सकते हैं.

वेबसाइट में सरलता बढ़ाने के लिए कुछ निर्देश हैं;

  1. बहुत अधिक रंग न जोड़ें, अर्थात SEO के अनुसार विशेषज्ञ आपकी वेबसाइट में अधिकतम पांच रंगों का उपयोग करते हैं.
  2. आसानी से पढ़ने योग्य टाइपफेस चुनें और प्रत्येक टाइपफेस के लिए अधिकतम तीन अलग-अलग टाइपफेस और अधिकतम तीन अलग-अलग आकारों का उपयोग करें.
  3. ग्राफ़िक्स केवल तभी जोड़ें जब वे उपयोगकर्ताओं को एक विशिष्ट work करने में मदद करते हैं.
  4. विशिष्ट जानकारी वाले page खोजने में उपयोगकर्ताओं की सहायता करने के लिए suggestion plugins जोड़ें.
  5. Horizontal scroll और pop ups से बचें क्योंकि वे उपयोगकर्ताओं को परेशान कर सकते हैं.

Conclusion

आज हमने इस पोस्ट “SEO दिशानिर्देश (SEO Guidelines)” में जाना-

  • SEO दिशानिर्देश क्या है? (What is SEO Guidelines?)
  • वेबसाइट डिजाईन SEO गाइडलाइन्स (Website Design SEO Guidelines),
  • कंटेंट ऑप्टिमाइजेशन (Content Optimization), और
  • SEO डिजाईन और लेआउट (SEO Design and Layout)

तो उम्मीद करता हूँ कि आपको हमारा यह पोस्ट “SEO दिशानिर्देश (SEO Guidelines)” अच्छा लगा होगा. आप इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और हमें आप Facebook PageLinkedinInstagram, और Twitter पर follow कर सकते हैं जहाँ से आपको नए पोस्ट के बारे में पता सबसे पहले चलेगा. हमारे साथ बने रहने के लिए आपका धन्यावाद. जय हिन्द.

Sources

Image Source: Pixabay [1], [2], [3]

इसे भी पढ़ें

Leave a Reply

%d bloggers like this: