जहाँपनाह किला (Jahanpanah Fort)

जहाँपनाह किला (Jahanpanah Fort) मंगोलों द्वारा किए गए हमलों को नियंत्रित करने के लिए मुहम्मद बिन तुगलक द्वारा निर्मित किया गया था जो जहाँपनाह शहर में था, ये शहर अब बर्बाद हो चूका है. 

जहाँपनाह का अर्थ है दुनिया की शरण. गढ़वाले शहर को अब बर्बाद कर दिया गया है लेकिन अभी भी किले के कुछ हिस्सों का दौरा किया जा सकता है. जहाँपनाह किला अब दिल्ली में आता है और इस किले को देखने भारत और विदेशों से प्रतिवर्ष कई लोग आते हैं.

यह पोस्ट आपको जहाँपनाह किला का इतिहास (History of Jahanpanah Fort) बतायेगा और साथ ही साथ अंदर मौजूद संरचनाओं के बारे में भी विस्तार से बताएगा.

तो चलिए शुरू करते हैं आज का पोस्ट जहाँपनाह किला का इतिहास (History of Jahanpanah Fort) और अगर आपको स्मारक के बारे में पढना अच्छा लगता है तो आप यहाँ क्लिक कर के पढ़ सकते हैं (यहाँ क्लिक करें).

जहाँपनाह किला का इतिहास (History of Jahanpanah Fort)

जहाँपनाह किला का इतिहास (History of Jahanpanah Fort)

जहाँपनाह अब एक बर्बाद शहर है और शहरी विकास का हिस्सा बन गया है. मुहम्मद बिन तुगलक ने 1326 और 1327 की अवधि के दौरान गढ़वाले शहर का निर्माण किया. किले में प्रवेश और निकास के लिए लगभग तेरह द्वार थे.

जहाँपनाह परियोजना

मुहम्मद बिन तुगलक बिखरी हुई शहरी बस्तियों को एकजुट करना चाहता था और यही कारण था कि उसने गढ़वाले शहर का निर्माण किया. क्षेत्रों में लाल कोट, सिरी और तुगलकाबाद किला शामिल थे. 

चूंकि किला बर्बाद हो गया है, इसलिए कई ऐतिहासिक पहलू गायब हो गए हैं. इतिहासकारों ने अनुमान लगाया है कि मुहम्मद बिन तुगलक ने किले को अपने और शाही परिवार के निवास के रूप में इस्तेमाल किया था.

इतिहासकारों का यह भी मानना है कि एक महल होना चाहिए जहां सुल्तान और शाही परिवार रहते थे जबकि आबादी किले की दीवार के भीतर रहती थी. यह भी माना जाता है कि शहर के निर्माण से पहले यह स्थान जंगल या ग्रामीण क्षेत्र था.

मस्जिद और आवासीय क्षेत्र

बेगमपुर मस्जिद को वह पूजा स्थल माना जाता है जहाँ केवल मुहम्मद बिन तुगलक के शाही परिवार के सदस्य ही पूजा कर सकते थे. कुछ अन्य इतिहासकारों का मानना है कि मस्जिद का निर्माण फिरोज शाह तुखलाक के शासनकाल में हुआ था.

सराय शाहजी महल को एक सराय के रूप में इस्तेमाल किया गया था और सराय के पास एक मस्जिद भी बनाई गई थी. इनके अलावा, लाल गुंबद, खरबुज़े का गुंबद, मकबरे, मस्जिद और महल जैसे अन्य स्मारक भी हैं. बिजई मंडल इमारतों का एक समूह है जिसकी उत्पत्ति अलाउद्दीन खिलजी के शासनकाल से संबंधित है.

जहाँपनाह किला का इतिहास (History of Jahanpanah Fort)

जहाँपनाह किला का वास्तुकला

जहाँपनाह किला बहुत बड़े क्षेत्र में बनाया गया था. किला अब बर्बाद हो गया है लेकिन अभी भी कई स्मारक जैसे मकबरे, मस्जिद, महल और अन्य संरचनाएं अभी भी मिल सकती हैं. उन संरचनाओं में से कुछ बेगमपुर मस्जिद, बिजई मंडल, कालूसराय मस्जिद, सराय शाहजी महल आदि हैं.

आदिलाबाद किला

आदिलाबाद किला गढ़वाले शहर जहाँपनाह के भीतर बनाया गया एक छोटा किला था. किले का डिजाइन तुगलकाबाद किले के समान है. 

किले में चार द्वार हैं जो दक्षिण-पूर्व, दक्षिण-पश्चिम, पूर्व और पश्चिम की दिशा में स्थित थे. दक्षिण-पूर्व और दक्षिण-पश्चिम के द्वारों में कक्ष हैं जबकि पूर्व और पश्चिम द्वार किले के प्रांगण की ओर ले जाते हैं. पानी की आपूर्ति के लिए सतपुला नामक एक टैंक बनाया गया था.

बेगमपुर मस्जिद

बेगमपुर मस्जिद अब बर्बाद हो गई है और मस्जिद के कुछ अवशेष ही देखे जा सकते हैं. मस्जिद का क्षेत्रफल 90m x 94m था. मस्जिद के प्रांगण की माप 75m x 80m थी. ज़हीर अल-दीन अल-जयूश एक ईरानी वास्तुकार थे जिन्होंने मस्जिद के लेआउट की योजना बनाई थी.

निर्माण की तिथि ज्ञात नहीं है परन्तु इसे लेकर दो मत हैं. कुछ इतिहासकारों का कहना है कि मस्जिद का निर्माण खान-ए-मकबुल तिलगनी ने किया था जो मुहम्मद बिन तुगलक के प्रधान मंत्री थे. दूसरों का कहना है कि मस्जिद का निर्माण फिरोज शाह तुगलक ने करवाया था.

मस्जिद में प्रवेश के लिए तीन द्वार थे. प्रत्येक द्वार में एक ढका हुआ मार्ग था. पश्चिम की ओर की दीवार में मिहराब, मीनारें और बीच में एक गुम्बद है. प्रार्थना कक्ष में नक्काशी है लेकिन दीवारें और स्तंभ ज्यादातर सादे थे जिनमें कोई सजावटी तत्व नहीं था. 

मस्जिद के दोनों तरफ छज्जे हैं. बिजई मंडल महल को उत्तरी द्वार के माध्यम से मस्जिद से जोड़ा गया था. पूर्वी द्वार सड़क के किनारे है और लोग सीढ़ियों से मस्जिद में प्रवेश कर सकते हैं.

जहाँपनाह किला का इतिहास (History of Jahanpanah Fort)

बिजय मंडल (Bijai Mandal)

बिजय मंडल 74m x 82m के क्षेत्र में फैला हुआ है. महल का गुम्बद चौकोर आकार का है. यह टौगलकी संरचना आकार में अष्टकोणीय है और एक ऊँचे चबूतरे पर बनी है. चारों दिशाओं में बने द्वारों से लोग महल में प्रवेश कर सकते हैं. महल में कई कक्ष और एक बड़ा हॉल था जिसे हजार सुतुन पैलेस के नाम से जाना जाता था.

आसपास के वातावरण और संगीत का आनंद लेने के लिए राजा और शाही लोग यहां आए थे. महल में अपार्टमेंट में प्रवेश करने के लिए दो बड़े उद्घाटन हैं. बिजई मंडल को अलाउद्दीन खिलजी का महल भी माना जाता है

कालूसराय मस्जिद

कालूसराय मस्जिद बिजई मंडल के पास स्थित है और बहुत खराब स्थिति में है. खान-ए-जहाँ मकबूल तिग़लानी ने मस्जिद का निर्माण कराया जिसकी बनावट उनके द्वारा बनाई गई अन्य मस्जिदों की तरह ही है. मस्जिद में छोटे-छोटे गुंबद हैं जिन्हें क्रम से व्यवस्थित किया गया था. ये गुंबद तुगलकी स्थापत्य शैली को दर्शाते हैं.

सराय शाहजी महल (Sarai Shahji Mahal)

सराय शाहजी महल का निर्माण मुगल बादशाहों द्वारा बेगमपुर मस्जिद के पास करवाया गया था. शेख फरीद का मकबरा उस महल के पास है जिसने अकबर के शासनकाल में कई सराय, एक मस्जिद और फरीदाबाद नाम का एक गांव बनवाया था. दो इमारतें एक-दूसरे से जुड़ी हुई हैं लेकिन आंतरिक रूप से कोई कनेक्टिंग पॉइंट नहीं है.

दोनों भवनों में से पहला आयताकार आकार का है जिसके बीच में एक बड़ा प्रांगण है. प्रांगण में चारदीवारी की संरचना है जिसमें अनेक कब्रें हैं. दूसरे भवन में एक ही कमरा है जिस तक तीन दरवाजों से पहुँचा जा सकता है. दरवाजे के ऊपर एक बालकनी है जो लाल बलुआ पत्थर से बने कोष्ठकों द्वारा समर्थित है.

लाल गुंबद  (Lal Gumbad)

लाल गुंबद सूफी संत रोशन चिराग-ए-देहली के शिष्य शेख कबीर-उद-दीन औलिया की कब्र का गुंबद है. मकबरा तुगलकाबाद किले के पास स्थित है और 1397 में बनाया गया था. मकबरे की बाहरी दीवारें लाल बलुआ पत्थर से बनी हैं. मकबरे की छत पर एक गुम्बद है जिस पर सोने की कली लगी हुई है.

मकबरे का प्रवेश द्वार इसके पूर्वी हिस्से में है जो सफेद संगमरमर की पट्टी से घिरा हुआ है. गेट में कमल की कली के डिजाइन के साथ एक मेहराब है. लाल बलुआ पत्थर की जाली वाले गेट के ऊपर एक और मेहराब है.

खरबुजे का गुंबद (Kharbuze ka Gumbad)

खरबुजे का गुंबद एक छोटा सा मंडप है जिसमें पत्थर से बना एक छोटा गुम्बद है जिसकी आकृति आधे कटे हुए खरबूजे की तरह है. मंडप के नीचे एक गुफा है जहाँ संत कबीर-उद-दीन औलिया अपनी रातें बिताते थे. चंदवा पत्थरों के ढेर पर संतुलित है और स्तंभों द्वारा समर्थित है.

Conclusion

तो उम्मीद करता हूँ कि आपको हमारा यह पोस्ट जहाँपनाह किला का इतिहास (History of Jahanpanah Fort)“ अच्छा लगा होगा. आप इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और हमें आप Facebook PageLinkedinInstagram, और Twitter पर follow कर सकते हैं जहाँ से आपको नए पोस्ट के बारे में पता सबसे पहले चलेगा. हमारे साथ बने रहने के लिए आपका धन्यावाद. जय हिन्द.

Image Source

Wikimedia Commons: [1][2][3][4]

इसे भी पढ़ें

Leave a Reply

%d bloggers like this: