कुम्भलगढ़ किला (Kumbhalgarh Fort)

कुम्भलगढ़ किला (Kumbhalgarh Fort) राजस्थान के राजसमंद जिले में स्थित है. किले की दीवार 38 किमी लंबी है और किला चित्तौड़गढ़ किले के बाद दूसरा सबसे बड़ा किला है. किला महाराणा कुंभा द्वारा बनाया गया था और यह महाराणा प्रताप का जन्मस्थान है.

यह पोस्ट आपको कुम्भलगढ़ किला का इतिहास (History of Kumbhalgarh Fort) बतायेगा और साथ-ही-साथ इसके अंदर मौजूद संरचनाओं के बारे में भी विस्तार में जानकारी देगा.

तो चलिए शुरू करते हैं आज का पोस्ट कुम्भलगढ़ किला का इतिहास (History of Kumbhalgarh Fort) और अगर आपको स्मारक के बारे में पढना अच्छा लगता है तो आप यहाँ क्लिक कर के पढ़ सकते हैं (यहाँ क्लिक करें).

कुम्भलगढ़ किला का इतिहास (History of Kumbhalgarh Fort)
कुम्भलगढ़ किला का इतिहास (History of Kumbhalgarh Fort)

कुम्भलगढ़ किला (Kumbhalgarh Fort) | History, Gates, Temples & Palaces

कुम्भलगढ़ किला: इतिहास (Kumbhalgarh Fort: History)

राणा कुंभा ने 1458 AD में कुंभलगढ़ किले का निर्माण करवाया था. निर्माण को पूरा करने में लगभग पंद्रह साल लगे. इस किले का निर्माण अशोक के पौत्र जैन राजा सम्पति के खंडहरों पर किया गया था. किले के निर्माण ने मेवाड़ को मारवाड़ से अलग कर दिया. राजपूत राजा अपने किले या महलों में खतरा महसूस होने पर किले को शरण के रूप में इस्तेमाल करते थे.

राणा कुंभल के तहत कुंभलगढ़ का किला

राणा कुंभा सिसोदिया राजपूत से तालुक रखते थे और उन्होंने मंडन को किले की वास्तुकला को डिजाइन करने का काम दिया था. राणा कुंभा का राज्य मेवाड़ से ग्वालियर तक फैला हुआ था जिसमें मध्य प्रदेश का एक बड़ा हिस्सा भी शामिल था. कुम्भलगढ़ किले के अलावा, राणा कुंभा ने अपने राज्य की रक्षा के लिए 31 और किले बनवाए.

राणा उदय सिंह के तहत कुंभलगढ़ का किला

राणा उदय सिंह जब छोटे थे तब उन्हें 1535 में चित्तौड़गढ़ किले की घेराबंदी के दौरान इस किले में लाया गया था. पन्ना धई अपने पिता की मृत्यु के बाद लाए थे. वह वह राजा था जिसने अपने शासनकाल के दौरान उदयपुर शहर की स्थापना की थी.

कुम्भलगढ़ किले पर हमले

अलाउद्दीन खिलजी ने किले पर हमला किया और 1303 में उस पर आक्रमण किया. एक और हमला गुजरात के अहमद शाह ने किया था लेकिन इसे असफल बना दिया गया था. अहमद शाह ने बनमाता मंदिर को नष्ट कर दिया क्योंकि ऐसा माना जाता था कि देवता ने किले को हमलों से बचाया था. महमूद खिलजी ने 1458, 1459 और 1467 में किले पर हमला किया लेकिन किले को जीतने में सफल नहीं हो सके.

बादशाह अकबर, मारवाड़ के राजा उदय सिंह, आमेर के राजा मान सिंह और गुजरात के मिर्जा की संयुक्त सेना ने भी किले पर हमला किया. पानी की कमी के कारण राजपूतों ने आत्मसमर्पण कर दिया. बादशाह अकबर के एक सेनापति शाहबाज खान ने किले पर अधिकार कर लिया. 1818 में, मराठों ने किले पर अधिकार कर लिया.

कुम्भलगढ़ किला का इतिहास (History of Kumbhalgarh Fort)
कुम्भलगढ़ किला का इतिहास (History of Kumbhalgarh Fort)

कुम्भलगढ़ किला: द्वार (Kumbhalgarh Fort: Gates)

कुम्भलगढ़ किले का निर्माण राणा कुंभा द्वारा अरावली पहाड़ियों के बीच किया गया था. किले में द्वार, मंदिर, महल और कई अन्य संरचनाएं हैं जिन्हें पर्यटक अपनी यात्रा के दौरान देख सकते हैं. किले का निर्माण मूल रूप से राणा कुंभा द्वारा किया गया था लेकिन बाद में राजपूत शासकों ने किले में कई संरचनाएं जोड़ीं.

पर्यटक अरीत द्वार, हनुमान द्वार और राम द्वार के जरिए किले में प्रवेश कर सकते हैं. अरीत द्वार दक्षिण में स्थित है जबकि राम द्वार उत्तर में है. हनुमान द्वार में हनुमान की छवि है जिसे राणा कुंभा मांडवपुर से लाए थे. किले परिसर तक भैरों द्वार, निंबू द्वार और पघरा द्वार के माध्यम से पहुँचा जा सकता है. पूर्व की ओर स्थित किले में दानीबट्टा एक और द्वार है.

अरीत द्वार

अरीत द्वार पहला द्वार है जहां से पर्यटक किले में प्रवेश कर सकते हैं. यह द्वार किले का दक्षिणी द्वार है. यदि कोई आपात स्थिति थी, तो सभी फाटकों को सूचित करने के लिए दर्पण संकेतों का उपयोग किया जाता था. जिस क्षेत्र में द्वार ​​का निर्माण किया गया है उसके चारों ओर जंगल हैं जिनमें बाघ और जंगली सूअर हैं. इस द्वार से प्रवेश द्वार पर गणेश मंदिर है.

हुल्ला द्वार

1567 में मुगल सेना द्वारा किले पर सफल आक्रमण के कारण हुल्ला द्वार या डिस्टर्बेंस पोल का नाम रखा गया था. इस द्वार से पर्यटक आसपास के क्षेत्र का सुंदर दृश्य देख सकते हैं.

निम्बू द्वार

निम्बू द्वार या लेमन गेट एक ऐसा स्थान था जहाँ पन्ना धाय अपने पिता पृथ्वीराज की मृत्यु के बाद बच्चे उदय सिंह को सुरक्षित स्थान पर ले गया था. उसने राजकुमार के बजाय अपने बेटे को प्रतिस्थापित किया और राजकुमार को ले गई क्योंकि उसके चाचा उसे मारना चाहते थे.

अन्य द्वार

हुल्ला द्वार से पर्यटक हनुमान द्वार में प्रवेश कर सकते हैं. इस गेट में हनुमान की एक छवि है जिसे राणा कुंभा मारवाड़ के मंडोर से लाए थे. भैरों द्वार ​​वह द्वार है जिसके माध्यम से पर्यटक किले की चोटी तक जा सकते हैं. पघरा द्वार वह द्वार है जहाँ घुड़सवार सेना इकट्ठी की जाती थी. किले का एक अन्य द्वार शीर्ष खाना द्वार या तोप द्वार है जहाँ एक गुप्त मार्ग था. एक अन्य द्वार जिसके माध्यम से पर्यटक किले में प्रवेश कर सकते हैं वह है राम द्वार.

कुम्भलगढ़ किला का इतिहास (History of Kumbhalgarh Fort)
कुम्भलगढ़ किला का इतिहास (History of Kumbhalgarh Fort)

कुम्भलगढ़ किला: मंदिर (Kumbhalgarh Fort: Temples)

किले में 364 मंदिर हैं जिनमें से 300 जैन मंदिर हैं. इनमें से कुछ मंदिर इस प्रकार हैं-

गणेश मंदिर

गणेश मंदिर राणा कुंभा के शासनकाल के दौरान बनाया गया था. इसे महलों के पास बनाया गया था ताकि शाही लोग आ सकें और भगवान गणेश की पूजा कर सकें जिनकी छवि मंदिर में स्थापित की गई थी. चित्तौड़गढ़ किले के कीर्तिस्तंभ के शिलालेख यहां पाए जा सकते हैं.

वेदी मंदिर

वेदी मंदिर एक जैन मंदिर है जिसकी तीन मंजिलें हैं और इसे अष्टकोणीय आकार में बनाया गया था. मंदिर राणा कुंभा द्वारा बनाया गया था और यह हनुमान द्वार के पास स्थित है. लोगों को सीढ़ियों से मंदिर तक जाना पड़ता है क्योंकि यह एक ऊंचे चबूतरे पर बना है. छत 36 स्तंभों द्वारा टिका हुआ है और इसके शीर्ष पर एक गुंबद है. राणा फतेह ने अपने शासनकाल में इस मंदिर का जीर्णोद्धार कराया था.

नीलकंठ महादेव मंदिर

नीलकंठ महादेव मंदिर वेदी मंदिर के पूर्व में स्थित है. यहां एक शिव लिंग है जिसकी ऊंचाई पांच फीट है. ऊँचे चबूतरे पर बने होने के कारण इस मंदिर तक कई सीढि़यों से पहुंचा जा सकता है.

पार्श्वनाथ मंदिर

पार्श्वनाथ एक जैन तीर्थंकर थे और उनकी पूजा करने के लिए नर सिंह पोखड ने एक मंदिर बनवाया था. यहां पार्श्वनाथ की मूर्ति स्थापित की गई है जिसकी ऊंचाई तीन फीट है.

बावन देवी मंदिर

बावन देवी मंदिर में एक ही परिसर में 52 मंदिर हैं और इसीलिए इसका नाम रखा गया है. केवल एक ही द्वार है जिससे भक्त प्रवेश कर सकते हैं. 52 मूर्तियों में से दो बड़ी हैं और बाकी छोटी हैं और दीवार के चारों ओर रखी गई हैं. एक जैन तीर्थंकर की एक छवि भी गेट पर पाई जा सकती है.

गोलेराव मंदिर समूह

गोलेराव मंदिर समूह बावन देवी मंदिर के पास स्थित है, जिसकी दीवारों पर देवी-देवताओं की छवियों को उकेरा गया है.

ममदेव मंदिर

ममदेव मंदिर को कुंभ श्याम मंदिर के नाम से भी जाना जाता है. यह वही स्थान है जहां राणा कुंभा की उनके बेटे ने हत्या कर दी थी जब वह घुटने टेककर प्रार्थना कर रहे थे. मंदिर में एक खंभों वाला मंडप और एक सपाट छत का गर्भगृह है. इसके साथ ही दीवारों में देवी-देवताओं की मूर्तियां खुदी हुई हैं. एक नक्काशी है जिसमें राणा कुंभा ने कुंभलगढ़ के इतिहास का विवरण दिया है.

पिटालिया देव मंदिर

पिटालिया देव मंदिर एक जैन मंदिर है जिसे पितालिया जैन सेठ ने बनवाया था. एक स्तंभित मंडप और एक गर्भगृह है और लोग यहां चारों दिशाओं से प्रवेश कर सकते हैं. मंदिर में मूर्तियाँ देवी-देवताओं, अप्सराओं और नर्तकियों की हैं.

कुम्भलगढ़ किला का इतिहास (History of Kumbhalgarh Fort)
कुम्भलगढ़ किला का इतिहास (History of Kumbhalgarh Fort)

कुम्भलगढ़ किला: महल (Kumbhalgarh Fort: Palaces)

विभिन्न शासकों द्वारा निर्मित कई महल हैं. इनमें से कुछ महल इस प्रकार हैं-

राणा कुंभा महल

राणा कुंभा महल राजपूत वास्तुकला के आधार पर बनाया गया था. पघारा द्वार के जरिए पर्यटक वहां पहुंच सकते हैं. महल के अंदर नीले रंग का दरबार हॉल है. पुरुषों के महल को महिलाओं के महल से अलग करने के लिए उनके बीच एक गलियारा बनाया गया था. कुछ महिला महलों में, दीवारों को हाथियों, मगरमच्छों और ऊंटों से चित्रित किया गया था.

बादल महल

बादल महल का निर्माण राणा फतेह सिंह ने करवाया था, जिन्होंने 1885 से 1930 तक शासन किया था. यहाँ एक संकरी सीढ़ियाँ हैं जहाँ से लोग महल तक पहुँचने के लिए किले की छत पर जा सकते हैं. 

इस महल में दो मंजिल हैं और एक गलियारा है जो पुरुषों के हिस्से को महिलाओं के हिस्से से अलग करता है. दीवारों को 19 वीं सदी के चित्रों से सजाया गया है. महिला महल में पत्थरों से बने जाली के पर्दे हैं ताकि वे अदालत में चल रही कार्यवाही को देख सकें.

झलिया का मालिया

झालिया का मालिया रानी झाली का महल था. महल पघरा द्वार के पास स्थित है और इसका निर्माण मलबे के पत्थर का उपयोग करके किया गया है. महल की दीवारें सादी हैं और छत सपाट है. यह वही महल है जिसमें राणा प्रताप का जन्म हुआ था.

Conclusion

तो उम्मीद करता हूँ कि आपको हमारा यह पोस्ट “कुम्भलगढ़ किला का इतिहास (History of Kumbhalgarh Fort)“ अच्छा लगा होगा. आप इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और हमें आप Facebook Page, Linkedin, Instagram, और Twitter पर follow कर सकते हैं जहाँ से आपको नए पोस्ट के बारे में पता सबसे पहले चलेगा. हमारे साथ बने रहने के लिए आपका धन्यावाद. जय हिन्द.

Image Source

Image Site Links: [1], [2], [3], [4]

इसे भी पढ़ें

Leave a Reply

%d bloggers like this: