जैसलमेर किला (Jaisalmer Fort)

जैसलमेर का किला (Jaisalmer Fort) पीले पत्थर से बना एक शानदार किला है. किले ने अतीत में कई लड़ाइयाँ देखी हैं. यह पूर्व और पश्चिम के बीच एक व्यापार मार्ग भी था. इस किले का दूसरा नाम सोनार किला या स्वर्ण किला है और इसका नाम इसलिए पड़ा क्योंकि जब सूरज की किरणें इस पर पड़ती हैं, तो किला सोने की तरह चमकता है.

यह पोस्ट आपको जैसलमेर किला का इतिहास (History of Jaisalmer Fort) बताएगा और साथ ही साथ अंदर मौजूद इसके संरचनाओं के बारे में भी विस्तार जानकारी देगा.

तो चलिए शुरू करते हैं आज का पोस्ट जैसलमेर किला का इतिहास (History of Jaisalmer Fort) और अगर आपको स्मारक के बारे में पढना अच्छा लगता है तो आप यहाँ क्लिक कर के पढ़ सकते हैं (यहाँ क्लिक करें).

इसके साथ-साथ आप हमें ये भी बता सकते हैं कि आपको कौन से स्मारक के बारे में जानना है या पढना है हमारी पूरी कोशिस रहेगी कि वो पोस्ट हम आपके सामने रख सकें, या आप हमें अपना कंटेंट भी भेज सकते हैं मेरे ईमेल पर.

जैसलमेर किला का इतिहास (History of Jaisalmer Fort)

जैसलमेर किला (Jaisalmer Fort) | इतिहास और वास्तुकला (History & Architecture)

जैसलमेर किला का इतिहास (History of Jaisalmer Fort)

भाटी राजपूत अलाउद्दीन खिलजी के अधीन जैसलमेर का किला

भाटी राजपूत पंजाब के सियालकोट इलाके से ताल्लुक रखते थे, जिन्होंने जैसलमेर से 120 किमी दूर एनोट नामक शहर में खुद को स्थापित किया. देवराज नाम के वंशजों में से एक ने लोद्रा राजपूत के निर्पभरु को हराया और लोद्रुवा को अपनी राजधानी बनाया और खुद को महारावल कहा.

महारावल जैसल देवराज के वंशज थे और उन्होंने 1156 AD में जैसलमेर किले का निर्माण किया था जो कि एक विशाल किला है. उस वर्ष, उसने गौर के सुल्तान की मदद से अपने भतीजे भोजदेव को गद्दी से उतार दिया.

किले को दिल्ली के सुल्तान से बचाने के लिए राजा जेत्सी ने भी 1276 में किले को मजबूत किया था. लेकिन फिर भी सुल्तान आठ साल की घेराबंदी करके किले को जीतने में सफल रहा. भाटियों ने फिर से किले पर कब्जा कर लिया लेकिन इसकी मरम्मत नहीं कर पाए. 1306 में डोडू ने किले को मजबूत किया.

जैसलमेर का किला (Jaisalmer Fort) पीले पत्थर से बना एक शानदार किला है. किले ने अतीत में कई लड़ाइयाँ देखी हैं. यह पूर्व और पश्चिम के बीच एक व्यापार मार्ग भी था. इस किले का दूसरा नाम सोनार किला या स्वर्ण किला है और इसका नाम इसलिए पड़ा क्योंकि जब सूरज की किरणें इस पर पड़ती हैं, तो किला सोने की तरह चमकता है.

प्राचीन काल में व्यापार

जैसलमेर सिल्क रोड पर स्थित था जो पूर्व और पश्चिम को जोड़ने वाला व्यापार मार्ग था. इस मार्ग से फारस, चीन, मिस्र, अफ्रीका और अरब के साथ व्यापार संभव था. चूंकि जैसलमेर व्यापार का केंद्र था और गोदाम सेवाएं भी प्रदान करता था इसलिए इस किले का निर्माण किया गया था.

अलाउद्दीन खिलजी के अधीन जैसलमेर का किला

13 वीं शताब्दी में किले पर कब्जा करने के बाद अलाउद्दीन खिलजी ने नौ साल तक जैसलमेर पर शासन किया. घेराबंदी के दौरान महिलाओं ने जौहर कर लिया. 

मुगल सम्राट हुमायूं ने भी 1541 में किले पर हमला किया था. लगातार हमलों के कारण, जैसलमेर के राजा ने 1570 में अकबर के साथ एक संधि पर हस्ताक्षर किए. उन्होंने अकबर को अपनी बेटी की शादी की पेशकश भी की. मुगलों ने 1762 तक किले को नियंत्रित किया.

राजपूतों और अंग्रेजों के अधीन जैसलमेर का किला

महारावल मूलराज ने 1762 में मुगलों से किले पर कब्जा कर लिया. उन्होंने 1818 में ईस्ट इंडिया कंपनी के साथ एक संधि पर भी हस्ताक्षर किए. 1820 में मूलराज की मृत्यु हो गई और उनके पोते गज सिंह ने उनका उत्तराधिकारी बना लिया. ब्रिटिश काल के दौरान, व्यापार मार्ग बदल दिया गया था. उन्होंने बंबई के बंदरगाह से व्यापार शुरू किया जिसके कारण सिल्क रोड से व्यापार में गिरावट आई और स्वतंत्रता के बाद बंद हो गया.

जैसलमेर का किला (Jaisalmer Fort) पीले पत्थर से बना एक शानदार किला है. किले ने अतीत में कई लड़ाइयाँ देखी हैं. यह पूर्व और पश्चिम के बीच एक व्यापार मार्ग भी था. इस किले का दूसरा नाम सोनार किला या स्वर्ण किला है और इसका नाम इसलिए पड़ा क्योंकि जब सूरज की किरणें इस पर पड़ती हैं, तो किला सोने की तरह चमकता है.

जैसलमेर किला का वास्तुकला (Architecture of Jaisalmer Fort)

किले की लंबाई 460 मीटर और चौड़ाई 230 मीटर है. किला एक पहाड़ी पर बनाया गया था जिसकी ऊंचाई 250 फीट है. पर्यटकों को घूमने के लिए अंदर कई संरचनाएं मिल सकती हैं. उनमें से कुछ इस प्रकार हैं-

राज महल

राज महल या किले का शाही महल जनता के लिए सुबह 9:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक खुला रहता है. महल का दौरा करने के लिए पर्यटकों को रुपये का भुगतान करना पड़ता है. 250. महल लगभग 1500AD में सात मंजिलों के साथ बनाया गया था.

जैन मंदिर

यहां सात जैन मंदिर हैं जिनका निर्माण लगभग 12 वीं शताब्दी में किया गया था. मंदिरों में पीले बलुआ पत्थर से नक्काशी की गई है. मंदिर दोपहर 12 बजे तक पर्यटकों के लिए खुला रहता है. 

प्रत्येक मंदिर अलग-अलग जैन तीर्थंकर को समर्पित है जिनके नाम पार्श्वनाथ, संभवनाथ, चंद्रप्रभु, ऋषभदेव, शीतलनाथ, शांतिनाथ और कुंथनाथ हैं. 

मंदिर परिसर का प्रवेश द्वार तोरण नामक एक द्वार है जो पार्श्वनाथ मंदिर की ओर जाता है. परिसर में ज्ञान भंडार पुस्तकालय भी है जहां लोग पुरातत्व से संबंधित पुस्तकें पढ़ सकते हैं.

लक्ष्मीनाथ मंदिर

लक्ष्मीनाथ मंदिर का निर्माण देवी लक्ष्मी और भगवान विष्णु की पूजा के लिए किया गया था. इस मंदिर का निर्माण राव लुनकरण के शासनकाल में 1494 AD में हुआ था. मंदिर में बहुत सारी राजस्थानी पेंटिंग हैं जो लोगों को प्राचीन काल में राजस्थान की संस्कृति के बारे में बताती हैं. जैन मंदिर की तुलना में लक्ष्मीनाथ मंदिर में कोई नक्काशी नहीं है.

द्वार

किले में प्रवेश करने के लिए, चार द्वार हैं जो गणेश द्वार, अक्षय द्वार, सूरज द्वार और हवा द्वार हैं. प्रत्येक द्वार को एक दूसरे से अलग बनाने के लिए विभिन्न नक्काशी की गई है. सूरज द्वार या सन गेट पर सूर्य की नक्काशी है. हवा द्वार या विंड गेट सादा है और इसके आसपास के आंगनों में हवा का प्रवाह होता है.

Conclusion

तो उम्मीद करता हूँ कि आपको हमारा यह पोस्ट जैसलमेर किला का इतिहास (History of Jaisalmer Fort)“ अच्छा लगा होगा. आप इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और हमें आप Facebook PageLinkedinInstagram, और Twitter पर follow कर सकते हैं जहाँ से आपको नए पोस्ट के बारे में पता सबसे पहले चलेगा. हमारे साथ बने रहने के लिए आपका धन्यावाद. जय हिन्द.

Image Source

Image Site Links: [1][2][3]

इसे भी पढ़ें

Leave a Reply

%d bloggers like this: