धोबी (The washerman)

dhobi the washerman धोबी
धोबी (The Washerman) | Source: Wikimedia

धोबी – निबंध हिंदी में

धोबी समाज का एक सदस्य है. वह हमारे गन्दे कपड़ों को धोता है. वह दरवाजेदरवाजे घूमता है. वह जल्दी उठता है. वह आराम तो जानता ही नहीं. वह किसी तालाब या नदी के किनारे पर जाता है. वहाँ पर वह हमारे गन्दे कपड़ों को सुखाता है. 

वह कपड़ों पर इस्त्री (Iron) करता है. वह उन कपड़ों को उन व्यक्तियों के पास पहुँचाता है जिनके वे कपड़े होते हैं. वहं गन्दे कपड़ों को एकत्र करता है. वह घर लौटता है. वह केवल रात्रि में विश्राम करता है.

धोबी कपड़ों पर चिह्न अंकित करता है. वह सुगमतापूर्वक प्रत्येक कपड़े को पहचान जाता है. वह अपने कर्तव्य में सदा सचेष्ट एवं संलग्न रहता है. वह अपने कार्य में ईमानदार होता है. गधा उसके लिए बड़ा सहायक होता है. गधा स्वामिभक्त होता है. वह गन्दे कपड़ों को लादकर नदी या तालाब के किनारे पहुँचाता है. उन्हें फिर लादकर घर लाता है.

धोबी एक अत्यन्त ही सरल व्यक्ति होता है. वह बड़ा भद्र व्यवहार करता है. वह साफ-सुथरा रहने में हमारी सहायता करता है. वह समाज का बड़ा उपयोगी सदस्य है. 

वह अमीर और गरीब दोनों की ही सेवा करता है. वह दूसरों की पोशाक पहनता है. वह हमेशा साफ-सुथरा रहता है. वह अपनी रीति-रिवाजों का बड़ा सम्मान करता है.

धोबी की आय बहुत ही कम होती है. वह कठिन परिश्रम करता है. वह रात्रि में कार्य करता है. वह कठिन परिश्रम के द्वारा अपनी जीविका कमाता है. वह अपने परिवार के सदस्यों के साथ कार्य करता है. उसकी पत्नी और बच्चे काम में उसकी मदद करते हैं. धोबी अधिकांशतः गरीब होते हैं. ये निराशापूर्ण जीवन व्यतीत करते हैं. धोबी शहर और ग्रामों में रहते हैं. ये बहुत कम शिक्षित होते हैं.

धोबी बड़े अच्छे ढंग से कार्य करता है. कपड़ों के बँटवारे में उससे बहुत ही कम भूलें होती हैं. अपने कार्य में उसे कपड़ा या अनाज मिलता है. समाज में वह निम्न स्तर का व्यक्ति माना जाता है. वह मदिरा पान करता है. इसी से वह गरीब हो जाता है. 

विवाह तथा अन्य सामाजिक उत्सवों एवं पर्वो के अवसर पर उसे इनाम भी मिलता है. समाज में उसका एक अपना स्थान है. उसके बिना हमारा कार्य नहीं चल सकता. वह हमारी बड़ी सहायता करता है.

धोबी समाज का एक उपयोगी सदस्य है. हम उसे नीची निगाहों से देखते हैं. हमें उसे सम्मान देना चाहिए. हमारी सहायता और सहानुभूति का वह अधिकारी है. 

हमारी सहायता पाकर वह अपनी उन्नति कर सकता है. नगर के धोबी धनी होते हैं. वे कपड़े धोने की अपनी दुकान चलाते हैं. वे अच्छी आमदनी करते हैं. सब कुछ होते हुए भी उसे अपने कार्य का उचित पारिश्रमिक नहीं मिलता.

The Washerman – Essay in English

The washerman is a common figure in every town and village. He washes our dirty clothes. He moves from door to door. He is an early riser. He knows no rest. He goes to a pond or river. He washes our clothes there. He gets them dried there. He irons the clothes. He distributes the clothes to the owners. He collects dirty clothes. He returns home. He joins his family. He takes rests only at night.

The washerman puts marks on his clothes. He easily recognises each and every cloth. He is always active and alert in his duty. He is honest in his work. The ass is very helpful to him. The ass is most faithful to him. He takes a load of dirty clothes to the tank or river. He brings them home again.

A washerman is a straightforward man. He behaves gently. He helps us to remain decent and fine. He is very serviceable. He serves both the rich and the poor. He wears the clothes of others. He is found neat and clean. He respects his customers.

The washerman has little income. He labours hard. He works even by night. He earns his living by hard labour. He works with his family members. His wife and children help him. Washermen are mostly poor. They lead hopeless life. The washerman lives both in towns and villages. He is rarely literate.

He works nicely. He seldom makes a mistake in distributing clothes. He is paid both in cash and in kind. He belongs to the lower caste of society. He takes drinks. This makes him helpless. This makes him poor. He gets rewards in marriages and other social festivals. He holds an important place in society. We cannot do without him. He is an excellent help to us.

The washerman is a useful member of our society. We look down upon him. He must get our respect. He deserves our help and sympathy. He can improve by our help. The town-washermen are rich. They have their laundries. They earn a decent income.

Conclusion

तो उम्मीद करता हूँ कि आपको हमारा यह निबंध “धोबी (The washerman) – Essay – Hindi & English” अच्छा लगा होगा. आप इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और हमें आप Facebook Page, Linkedin, Instagram, और Twitter पर follow कर सकते हैं जहाँ से आपको नए पोस्ट के बारे में पता सबसे पहले चलेगा. हमारे साथ बने रहने के लिए आपका धन्यावाद. जय हिन्द.

इसे भी पढ़े

  • रेल यात्रा (Railway Journey)
    हमलोगों ने अखबारों में पढ़ा कि सन्त विनोबा भावे गया आयेंगे और भूदान का सन्देश देंगे. मैंने तीन मित्रों के साथ गया जाने तथा उनका भाषण सुनने का निश्चय किया.
  • भ्रमण (Travelling)
    एक देश से दूसरे देश और एक शहर से दूसरे शहर भ्रमण करना ‘यात्रा’ कहलाता है.
  • ग्राम-पंचायत (The Village-Panchayat)
    हिन्दू राज्यकाल में ग्राम पंचायत के कार्य गाँवों में होते थे. पहले यहाँ बड़े बड़े नगर और बाजार नहीं थे. गाँववासी बड़े आनन्द से रहते थे.
  • गाँव का बाजार (Village Market)
    इस निबंध में आपको गाँव के बाजार के बारे में जानने को मिलेगा.
  • मेरा गाँव (My Village)
    इस निबंध में आपको गाँव (Village) के बारे में जानने को मिलेगा कि गाँव में लोगों का रहन-सहन कैसा है और गाँव वालो को क्या-क्या परेशानियाँ झेलनी पड़ती है.
  • धोबी (The washerman)
    इस निबंध में हम धोबी (The Washerman) के बारे में बात करेंगे कि इनका हमारे जीवन में क्या योगदान है और इन्हें कितनी समस्याएं झेलनी पड़ती है.
  • फेरीवाला (The Street Hawker)
    इस निबंध में आपको फेरीवाला के बारे में जानने को मिलेगा जो आपके परीक्षा दे दृष्टिकोण से अच्छा है.
  • ईद उल-अज़हा (Eid al-Adha)
    इस पोस्ट में हम ईद उल-अज़हा (Eid al-Adha) के बारे में जानेगे जो इस्लाम का सबसे महत्वपूर्ण पर्व है. जिसे ईसाई और यहूदी धर्म में इब्राहीम के रूप में, अपने बेटे इस्माइल को अल्लाह के आदेश के अनुसार बलिदान करने के लिए जाना जाता है.
  • भिक्षुक (The Beggar)
    आज के इस निबंध में भिक्षुक (The Beggar) पर चर्चा करेंगे. इसमें भिक्षुक (The Beggar) से सम्बंधित बातों को साझा किया जायेगा. आशा करता हूँ कि आपको या निबंध पसंद आएगा.
  • भारतीय किसान (Indian Farmer)
    इस निबंध में भारतीय किसान पर चर्चा करेंगे. इसमें भारतीय किसान से सम्बंधित बातों को साझा किया जायेगा. आशा करता हूँ कि आपको या निबंध पसंद आएगा.

Leave a Reply

%d bloggers like this: