घर हमारा जो न रोते भी तो वीरां होता | मिर्ज़ा ग़ालिब | हिंदी शायरी

%d bloggers like this: