ज़िक्र उस परीवश का और फिर बयां अपना - मिर्ज़ा ग़ालिब - हिंदी शायरी

ज़िक्र उस परीवश का और फिर बयां अपना | मिर्ज़ा ग़ालिब हिंदी शायरी

आपके सामने हिंदी शायरी (Hindi Poetry) “ज़िक्र उस परीवश का और फिर बयां अपना, सब कहां ? कुछ लाला-ओ-गुल में नुमायां हो गईं और मज़े जहान के अपनी नज़र में ख़ाक नहीं” लेकर आया हूँ और इस शायरी को मिर्ज़ा ग़ालिब (Mirza Ghalib) जी ने लिखा है.
Read More
ये न थी हमारी किस्मत कि विसाले-यार होता - मिर्ज़ा ग़ालिब - हिंदी शायरी

ये न थी हमारी किस्मत कि विसाले-यार होता | मिर्ज़ा ग़ालिब हिंदी शायरी

आपके सामने हिंदी शायरी (Hindi Poetry) “ये न थी हमारी किस्मत कि विसाले-यार होता” लेकर आया हूँ और इस शायरी को मिर्ज़ा ग़ालिब (Mirza Ghalib) जी ने लिखा है.
Read More