कैनोनिकल टैग (Canonical Tags) – SEO

आज के इस SEO पोस्ट में हम कैनोनिकल टैग (Canonical Tags) के बारे में जानेगे और साथ में ये भी जानेगे कि कैनोनिकल टैग का किसी वेबसाइट के SEO में क्या योगदान होता है.

तो चलिए शुरू करते हैं आज का पोस्ट जिसका नाम है- कैनोनिकल टैग (Canonical Tags) – SEO और अगर आपको SEO से सम्बंधित ब्लॉग पढने में अच्छा लगता है तो आप इस लिंक पर क्लिक करके और भी पोस्ट पढ़ सकते हैं. (Click Here)

कैनोनिकल टैग (Canonical Tags) - SEO
कैनोनिकल टैग (Canonical Tags) – SEO

कैनोनिकल टैग (Canonical Tags) – SEO

कैनोनिकल टैग क्या होता है? (What is Canonical Tag?)

कैनोनिकल टैग (Canonical Tags) को कैनोनिकल URL (canonical URL) या URL कैनोनिकलाइज़ेशन (URL canonicalization) के नाम से भी जाना जाता है. Content के मूल स्रोत को दिखाने के लिए इसे Webpage के HTML कोड में शामिल किया गया है. तो, यह एक HTML element है जिसका उपयोग डुप्लिकेट Content के मुद्दों को रोकने के लिए किया जाता है. 

यह एक वेब पेज के कैनोनिकल URL “पसंदीदा संस्करण” को निर्दिष्ट करता है और Search Engines को बताता है कि अन्य समान URL अलग या डुप्लीकेट नहीं हैं; वे एक ही हैं. इस प्रकार, यह उन मुद्दों को रोकता है जो एक ही Content के कई URL पर दिखाई देने पर उत्पन्न होते हैं, जो निम्न में से किसी एक कारण से हो सकता है.

  • एक Webpage अपने URL से पहले “www” prefix के साथ या उसके बिना पहुँचा जा सकता है
  • एक Webpage “http” और “https” प्रोटोकॉल के माध्यम से पहुँचा जा सकता है
  • एक Webpage में विभिन्न URL के साथ कई versions होते हैं, उदाहरण के लिए, एक print version या sort categories का उपयोग करते समय, आदि.

कैनोनिकल टैग कैसा दिखता है / कैनोनिकल टैग के पार्ट्स (How does Canonical Tag look like / Parts of a canonical tag)

कैनोनिकल टैग्स में simple और consistent syntax होता है और इन्हें वेब पेज के <head> सेक्शन में रखा जाता है. यह rel=”canonical” के रूप में दिखाई देता है.

उदाहरण के लिए: <link rel=”canonical” href=https://example.com/sample-page/”/>

कोड के प्रत्येक भाग का अर्थ:

  1. Link rel= “canonical”: इस टैग में निहित लिंक इस पेज का मूल (कैननिकल) संस्करण है.
  2. href=”https://example.com/sample-page/”: Canonical version खोजने के लिए आप इस URL पर जा सकते हैं.

SEO की दृष्टि से कैनोनिकल टैग क्यों महत्वपूर्ण है? (Why canonical tag is important in terms of SEO?)

Google जैसे Search Engine को डुप्लिकेट Content पसंद नहीं है. यह उनके लिए भ्रम पैदा करता है, यहाँ बताया गया है:

  1. Google यह नहीं जानता कि किसी Page के किस Version को एकाधिक Page में से अनुक्रमित किया जाए.
  2. प्रश्नों के लिए कौन सा पेज रैंक करना है.
  3. चाहे एक पेज पर link equity को consolidate (समेकित) करें या इसे कई Version में विभाजित करें.
  4. इसके अलावा, बहुत अधिक डुप्लिकेट Page “crawl budget” को भी प्रभावित कर सकते हैं. Google आपकी Websiteपर अन्य नए Page खोजने के बजाय समान Content वाले भिन्न URL को क्रॉल करने में समय बर्बाद कर सकता है.

इसलिए, यदि आपकी Website पर समान Content के दो या अधिक Page हैं या यदि आपकी site की Content का उपयोग किसी अन्य site पर भी किया जाता है, तो आपको एक विहित URL का उपयोग करना चाहिए. इस तरह, आप Google को मूल Content पर इंगित कर सकते हैं और सुनिश्चित कर सकते हैं कि मुख्य Page को सभी credit और SEO benefits मिलते हैं.

ई-कॉमर्स कंपनी के product page duplication का निम्नलिखित उदाहरण देखें;

कैनोनिकल टैग (Canonical Tags) - SEO

ऊपर दिखाए गए चित्र में, एक ही product “yellow toy car” के लिए तीन product page हैं. इन pages में ब्रेडक्रंब लिंक (Breadcrumb link) को छोड़कर समान सामग्री है. इसलिए, कैनोनिकल टैग्स की सहायता से हम एक page को canonical version के रूप में चिह्नित कर सकते हैं और दो प्रतियों को eliminate कर सकते हैं.

कैनोनिकल टैग (Canonical Tags) - SEO

उपरोक्त image में, कैनोनिकल टैग का उपयोग करते हुए, हमने search engine को [https://www.example.com/toys/cars/yellow] पर स्थित page को original page और अन्य दो URL को विविधताओं के रूप में मानने के लिए सूचित किया है.

इसलिए, यदि आपकी साइट एकाधिक URL पर समान content प्रदर्शित करती है, तो कैनोनिकल टैग का उपयोग करके, आप एक URL को canonical version के रूप में चुन सकते हैं और यह साफ़ कर सकते हैं कि अन्य URL डुप्लिकेट नहीं हैं. नीचे दिया गया एक और उदाहरण देखें:

अब, मुख्य पृष्ठ को canonical version के रूप में दिखाने के लिए, हम अन्य दो URL के header में एक कैनोनिकल टैग रख सकते हैं जो main page (http://www.example.com) को indicate करता है.

कैनोनिकल टैग कैसे लागू करें? (How to apply a canonical tag?)

आप उस page के HTML कोड के शीर्ष पर एक लिंक टैग जोड़कर इस टैग को लागू कर सकते हैं जिसे आप search engine द्वारा canonical के रूप में पहचानना चाहते हैं, उदाहरण के लिए www.7moral.com को कैनोनिकल टैग के साथ नामित करने के लिए कोड नीचे दिखाया गया है;

<link rel= “canonical” href = “http://www.7moral.com/canonical-tags-seo-hindi” />     

कैनोनिकल टैग किसी साइट के SEO को बेहतर बनाने में कैसे मदद करता है? (How canonical tag helps improve SEO of a site?)

यह उन मामलों में बहुत मददगार होता है जब आपके पास एक page के कई समान Version होते हैं या आपकी content कई URL के माध्यम से सुलभ होती है. 

यह आपको विहित URL के रूप में एक Version चुनने में सक्षम बनाता है; आप मिलते-जुलते URL के हर सेट के लिए एक canonical URL बना सकते हैं. आपका कैनोनिकल टैग तैयार होने के बाद, search engine समान Versions के सभी लिंक को canonical version के लिंक के रूप में मानेगा जो आपकी साइट के SEO को बेहतर बनाने में मदद करता है.

Conclusion

तो उम्मीद करता हूँ कि आपको हमारा यह पोस्ट “कैनोनिकल टैग (Canonical Tags) – SEO अच्छा लगा होगा. आप इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और हमें आप Facebook Page, Linkedin, Instagram, और Twitter पर follow कर सकते हैं जहाँ से आपको नए पोस्ट के बारे में पता सबसे पहले चलेगा. हमारे साथ बने रहने के लिए आपका धन्यावाद. जय हिन्द.

Image Source

Image Site Links: [1], [2], [3]

इसे भी पढ़ें

Leave a Reply

%d bloggers like this: