हिमालय की बेटियाँ – हिंदी कहानी

हिमालय की बेटियाँ - हिंदी कहानी
हिमालय की बेटियाँ – हिंदी कहानी

हिमालय की बेटियाँ – हिंदी कहानी

हिमालय की बेटियाँ – हिंदी कहानी: अभी तक मैंने उन्हें दूर से देखा था. बड़ी गंभीर, शांत, अपने आप में खोई हुई लगती थीं. संभ्रांत महिला की भाँति वे प्रतीत होती थीं. उनके प्रति मेरे दिल में आदर और श्रद्धा के भाव थे. माँ और दादी, मौसी और मामी की गोद की तरह उनकी धारा में डुबकियाँ लगाया करता.

परंतु इस बार जब मैं हिमालय के कंधे पर चढ़ा तो वे कुछ और रूप में सामने थीं. मैं हैरान था कि यही दुबली-पतली गंगा, यही यमुना, यही सतलुज समतल मैदानों में उतरकर विशाल कैसे हो जाती हैं. इनका उछलना और कूदना,

खिलखिलाकर लगातार हँसते जाना, इनकी यह भाव-भंगी, इनका यह उल्लास कहाँ गायब हो जाता है मैदान में जाकर? किसी लड़की को जब मैं देखता हूँ, किसी कली पर जब मेरा ध्यान अटक जाता है, तब भी इतना कौतूहल और विस्मय नहीं होता, जितना कि इन बेटियों की बाललीला देखकर! 

कहाँ ये भागी जा रही हैं? वह कौन लक्ष्य है जिसने इन्हें बेचैन कर रखा है? अपने महान पिता का विराट प्रेम पाकर भी अगर इनका हृदय अतृप्त ही है तो वह कौन होगा जो इनकी प्यास मिटा सकेगा!

बरफ़ जली नंगी पहाड़ियाँ, छोटे-छोटे पौधों से भरी घाटियाँ, बंधुर अधित्यकाएँ, सरसब्ज उपत्यकाएँ-ऐसा है इनका लीला निकेतन! खेलते-खेलते जब ये जरा दूर निकल जाती हैं तो देवदार, चीड़, सरो, चिनार, सफ़ेदा, कैल के जंगलों में पहुँचकर शायद इन्हें बीती बातें याद करने का मौका मिल जाता होगा.

हिमालय की बेटियाँ – हिंदी कहानी

कौन जाने, बुड्डा हिमालय अपनी इन नटखट बेटियों के लिए कितना सिर धुनता होगा! बड़ी-बड़ी चोटियों से जाकर पूछिए तो उत्तर में विराट मौन के सिवाय उनके पास और रखा ही क्या है?

सिंधु और ब्रह्मपुत्र-ये दो ऐसे नाम हैं जिनके सुनते ही रावी, सतलुज, व्यास, चनाब, झेलम, काबुल (कुभा), कपिशा, गंगा, यमुना, सरयू, गंडक, कोसी आदि हिमालय की छोटी-बड़ी सभी बेटियाँ आँखों के सामने नाचने लगती हैं. वास्तव में सिंधु और ब्रह्मपुत्र स्वयं कुछ नहीं हैं.

दयालु हिमालय के पिघले हुए दिल की एक-एक बूंद न जाने कब से इकट्ठा हो-होकर इन दो महानदों के रूप में समुद्र की ओर प्रवाहित होती रही है. कितना सौभाग्यशाली है वह समुद्र जिसे पर्वतराज हिमालय की इन दो बेटियों का हाथ पकड़ने का श्रेय मिला!

जिन्होंने मैदानों में ही इन नदियों को देखा होगा, उनके खयाल में शायद ही यह बात आ सके कि बूढ़े हिमालय की गोद में बच्चियाँ बनकर ये कैसे खेला करती हैं. माँ-बाप की गोद में नंग-धडंग होकर खेलनेवाली इन बालिकाओं का रूप पहाड़ी आदमियों के लिए आकर्षक भले न हो, लेकिन मुझे तो ऐसा लुभावना प्रतीत हुआ वह रूप कि हिमालय को ससुर और समुद्र को उसका दामाद कहने में कुछ भी झिझक नहीं होती है.

कालिदास के विरही यक्ष ने अपने मेघदूत से कहा था-वेत्रवती (बेतवा) नदी को प्रेम का प्रतिदान देते जाना, तुम्हारी वह प्रेयसी तुम्हें पाकर अवश्य ही प्रसन्न होगी. यह बात इन चंचल नदियों को देखकर मुझे अचानक याद आ गई और सोचा कि शायद उस महाकवि को भी नदियों का सचेतन रूपक पसंद था. दरअसल जो भी कोई नदियों को पहाड़ी घाटियों और समतल आँगनों के मैदानों में जुदा-जुदा शक्लों में देखेगा, वह इसी नतीजे पर पहुँचेगा.

हिमालय की बेटियाँ – हिंदी कहानी

काका कालेलकर ने नदियों को लोकमाता कहा है. किंतु माता बनने से पहले यदि हम इन्हें बेटियों के रूप में देख लें तो क्या हर्ज है? और थोड़ा आगे चलिए…इन्हीं में अगर हम प्रेयसी की भावना करें तो कैसे रहेगा? ममता का एक और भी धागा है, जिसे हम इनके साथ जोड़ सकते हैं. बहन का स्थान कितने कवियों ने इन नदियों को दिया है. एक दिन मेरी भी ऐसी भावना हुई थी.

थो-लिङ् (तिब्बत) की बात है. मन उचट गया था, तबीयत ढीली थी. सतलज के किनारे जाकर बैठ गया. दोपहर का समय था. पैर लटका दिए पानी में. थोड़ी ही देर में उस प्रगतिशील जल ने असर डाला. तन और मन ताज़ा हो गया तो लगा मैं गुनगुनाने-

जय हो सतलज बहन तुम्हारी
लीला अचरज बहन तुम्हारी
हुआ मुदित मन हटा खुमारी
जाऊँ मैं तुम पर बलिहारी
तुम बेटी यह बाप हिमालय
चिंतित पर, चुपचाप हिमालय
प्रकृति नटी के चित्रित पट पर
अनुपम अद्भुत छाप हिमालय
जय हो सतलज बहन तुम्हारी!

– नागार्जुन

तो उम्मीद करता हूँ कि आपको हमारा यह पोस्ट हिमालय की बेटियाँ – हिंदी कहानी अच्छा लगा होगा. तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और हमें आप Facebook PageLinkedinInstagram, और Twitter पर follow कर सकते हैं जहाँ से आपको नए पोस्ट के बारे में पता सबसे पहले चलेगा. हमारे साथ बने रहने के लिए आपका धन्यावाद. जय हिन्द.

Story Source of हिमालय की बेटियाँ – हिंदी कहानी: NCERT Hindi Story Book Class 7
Image Source of हिमालय की बेटियाँ – हिंदी कहानी:

इसे भी पढ़ें

रमजान का इतिहास – History Of Ramadan In Hindi – Eid al-Fitr – (हिंदी कहानी)
होली: रंगों का महा त्यौहार – History Of Holi In Hindi – (हिंदी कहानी)
गारो – Short Moral Story In Hindi – (हिंदी कहानी)
दिवाली का प्राचीन उद्गम, भारत का सबसे बड़ा त्यौहार – Origins And History Of Diwali In Hindi – (हिंदी कहानी)
तीन प्रेरणादायक नैतिक कहानियाँ हिंदी में – Three Inspirational Moral Stories in Hindi – (हिंदी कहानी)

हिमालय की बेटियाँ – हिंदी कहानी

Leave a Reply

%d bloggers like this: