Internal link Building – SEO in Hindi

वेबसाइट SEO के इस पोस्ट में हम इंटरनल लिंक बिल्डिंग (Internal link Building) के बारे में जानेंगे और हम इसके साथ-साथ ये भी जानेंगे कि वेबसाइट SEO में इंटरनल लिंकिंग का कितना महत्व है.

तो चलिए शुरू करते हैं आज का पोस्ट जिसका नाम है- इंटरनल लिंक बिल्डिंग (Internal link Building) और अगर आपको SEO से सम्बंधित ब्लॉग पढने में अच्छा लगता है तो आप इस लिंक पर क्लिक करके और भी पोस्ट पढ़ सकते हैं. (Click Here)

Read: Images & Alt Text SEO

Read: मेटा टैग (Meta Tags) – SEO

Internal link Building - SEO in Hindi
Internal link Building – SEO in Hindi

इंटरनल लिंक बिल्डिंग की परिभाषा (Definition of Internal link Building)

एक ही डोमेन पर एक पेज से दूसरे पेज पर एक टेक्स्ट लिंक को इंटरनल लिंक (Internal Link) के रूप में जाना जाता है और ऐसे लिंक बनाने को इंटरनल लिंक बिल्डिंग (Internal link Building) कहा जाता है. 

यह एक महत्वपूर्ण SEO तकनीक है जो आपको नई पोस्ट पर ट्रैफ़िक बढ़ाने के साथ-साथ उपयोगकर्ताओं को अधिक प्रासंगिक कंटेंट प्रदान करने के लिए एक नई पोस्ट को किसी अन्य पुरानी या लोकप्रिय पोस्ट से लिंक करने में सक्षम बनाती है. 

वेबसाइट के मालिक का इंटरनल लिंक पर पूरा नियंत्रण होता है, इसलिए इसका प्रभावी ढंग से उपयोग करना महत्वपूर्ण है. लिंक संरचना प्राकृतिक और उपयोगकर्ता के अनुकूल होनी चाहिए ताकि उपयोगकर्ता आपकी वेबसाइट पर आसानी से नेविगेट कर सकें.

इंटरनल लिंक बिल्डिंग के कुछ प्रमुख लाभ (Some of the major benefits of Internal link building)

  1. User-friendly navigation: यह नेविगेशन को बेहतर बनाने में मदद करता है; जब आप कोई पेज पढ़ रहे होते हैं तो आप टेक्स्ट लिंक्स के माध्यम से अन्य समान पेजों तक भी पहुंच सकते हैं. इस प्रकार, यह  page views को बढ़ावा देने और आपकी site conversion rate को बढ़ाने में भी मदद करता है.
  2. Help provide relevant data: यह आपको यूजर्स और सर्च इंजनों को यह बताने में सक्षम बनाता है कि साइट के अन्य पेजों पर उनके द्वारा पढ़े जा रहे पाठ के बारे में अधिक या अतिरिक्त जानकारी है. इस प्रकार, आप यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि आपके यूजर कोई प्रासंगिक जानकारी न चूकें.
  3. Decreases bounce rate: टेक्स्ट लिंक का उपयोग करके आप अपनी साइट पर यूजर्स को लंबी अवधि के लिए /संलग्न कर सकते हैं; यूजर अन्य संबंधित पोस्ट या लिंक का उपयोग करके अन्य पेजों पर कंटेंट पढ़ना चाहता है.
  4. Helps utilize link juice for other pages: यह आपके पेजों को उच्च पेज रैंक या अधिकार के साथ किसी अन्य पेज पर प्रासंगिक कंटेंट से जोड़ने में मदद करता है जो रैंकिंग में कम है या इतना लोकप्रिय नहीं है. इस प्रकार, आप लिंक जूस को एक पेज से दूसरे पेज पर भेज सकते हैं ताकि वे बेहतर प्रदर्शन कर सकें. इसके अलावा, जब भी आप नई कंटेंट या पेज अपलोड करते हैं, तो आप इसे अपनी मौजूदा कंटेंट से लिंक कर सकते हैं जो लोकप्रिय है और SERPs में उच्च रैंकिंग है.
  5. Helps add value to pages: इंटरनल लिंक के माध्यम से Google विभिन्न पेजों, पोस्ट आदि के बीच संबंधों को समझ सकता है और इस प्रकार यह पता लगा सकता है कि आपकी साइट पर कौन से पेज संबंधित जानकारी को कवर करते हैं. इस प्रकार, यह पेजों की प्रासंगिकता और मूल्य को बढ़ाता है.
  6. Site architecture: इंटरनल लिंकिंग साइट आर्किटेक्चर को स्थापित करने और लिंक जूस को फैलाने में मदद करता है.
  7. Page Rank: उच्च पेजरैंक वाला पेज इंटरनल लिंकिंग के माध्यम से अपने पेजरैंक को और बेहतर बना सकता है और इसके लिंक जूस को अन्य जुड़े हुए पेजों तक फैला सकता है.
  8. Better crawling and indexing: इंटरनल आर्किटेक्चर क्रॉलर को ऐसे गहरे पेज खोजने में मदद करता है जो आमतौर पर नहीं देखे जाते हैं. इस प्रकार, इंटरनल लिंक के माध्यम से यह उस कंटेंट की पहचान कर सकता है जो इसके सूचकांक में मौजूद नहीं थी. इसलिए, अच्छी इंटरनल लिंकिंग वाली साइट क्रॉलर द्वारा खोजी गई और अनुक्रमित की गई अपनी नई कंटेंट की अपेक्षा कर सकती है.
  9. Boosts Organic traffic: लिंक जूस को नए पेजों पर भेजने से, यह नए पेजों की रैंकिंग में सुधार करने में मदद करता है और इस तरह ऑर्गेनिक ट्रैफ़िक को बढ़ाता है.
  10. Improves click-through rate: इंटरनल लिंक यूजर्स को आपकी साइट पर अधिक पेज खोजने की अनुमति देते हैं जो click-through rate में सुधार करते हैं.

Practical tips

इंटरनल लिंकिंग SEO का एक बहुत ही महत्वपूर्ण और व्यापक हिस्सा है और आपकी वेबसाइट की SEO क्षमता का उपयोग करने के लिए कई बिंदुओं पर विचार करना चाहिए. इसलिए, हमने इस विषय के साथ आरंभ करने में आपकी सहायता करने के लिए कुछ व्यावहारिक सुझाव एक साथ रखे हैं.

मौजूदा कंटेंट की जाँच करें (Check existing content)

जब आप नई SEO कंटेंट (जैसे एक नया ब्लॉग पोस्ट) प्रकाशित करते हैं, तो नई पोस्ट को लिंक करने की संभावनाओं के लिए आपको हमेशा अपनी मौजूदा कंटेंट की जांच करनी चाहिए. ऐसा करने से, आप आसानी से अपने नए पेज के लिए प्रासंगिकता बना सकते हैं, जो अंततः एक उच्च रैंकिंग की ओर ले जाता है.

HTML साइटमैप का प्रयोग करें (Use HTML sitemaps)

HTML साइटमैप का उपयोग यह सुनिश्चित करता है कि प्रत्येक उपपृष्ठ आपके होम पेज से केवल दो क्लिक दूर है, इस प्रकार एक SEO फ्रेंडली वेबसाइट आर्किटेक्चर तैयार करता है. उदाहरण के लिए, एक ऑनलाइन जॉब पोर्टल के लिए, वर्णमाला के सभी अक्षरों वाला एक बार एक अच्छा विकल्प है, जिससे आप किसी भी शहर को उसके प्रारंभिक अक्षर का उपयोग करके कुछ ही क्लिक के साथ कॉल कर सकते हैं.

अपनी वेबसाइट का परीक्षण करवाएं (Have your website tested)

अपनी इंटरनल लिंकिंग की गुणवत्ता की जांच करने के लिए, आपको किसी ऐसे व्यक्ति से पूछने पर विचार करना चाहिए जो आपकी वेबसाइट से परिचित नहीं है कि वह विशिष्ट जानकारी के लिए इसे खोजें. 

यह उनके लिए कितना कठिन या आसान है, इससे आप यह पता लगा सकते हैं कि आपकी वेबसाइट पहले से ही स्पष्ट और समझदारी से जुड़ी हुई है या फिर अभी भी अनुकूलन की आवश्यकता है. 

कमजोर बिंदुओं को उजागर करने का यह एक बहुत ही सरल तरीका है कि आप स्वयं को नोटिस नहीं करेंगे, क्योंकि आप पहले से ही अपनी वेबसाइट को पूरी तरह से जानते हैं.

Conclusion

तो उम्मीद करता हूँ कि आपको हमारा यह पोस्ट “इंटरनल लिंक बिल्डिंग (Internal link Building) – SEO in Hindi” अच्छा लगा होगा. आप इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और हमें आप Facebook Page, Linkedin, Instagram, और Twitter पर follow कर सकते हैं जहाँ से आपको नए पोस्ट के बारे में पता सबसे पहले चलेगा. हमारे साथ बने रहने के लिए आपका धन्यावाद. जय हिन्द.

इसे भी पढ़े

Leave a Reply

%d bloggers like this: