काबुलीवाला – रवींद्रनाथ टैगोर द्वारा लिखी हिंदी कहानी

काबुलीवाला: ये हिंदी कहानी “काबुलीवालारवींद्रनाथ टैगोर द्वारा लिखी गयी है, जिन्हें कौन नहीं जनता है वे पुरे विश्व में प्रशिद्ध थें उनकी हिंदी रचनाएँ और हिंदी कहानियाँ सबके मन को मोह लेती है और कुछ सिखा के भी जाती है. आज हम उनके द्वारा ही लिखी एक हिंदी कहानी को आपके साथ साझा करने जा रह हूँ. जिसका नाम है: “काबुलीवाला“.

Also Read:

काबुलीवाला - रवींद्रनाथ टैगोर द्वारा लिखी हिंदी कहानी
काबुलीवाला – रवींद्रनाथ टैगोर द्वारा लिखी हिंदी कहानी

काबुलीवाला – रवींद्रनाथ टैगोर द्वारा लिखी हिंदी कहानी

सहसा मेरी पाँच वर्ष की लाडली बेटी मिनी ‘अगड़म बगड़म’ का खेल छोड़कर खिड़की की तरफ भागी और ज़ोर-ज़ोर से पुकारने लगी, “काबुलीवाले, ओ काबुलीवाले!”

मैं इस समय उपन्यास लिख रहा था. नायक, नायिका को लेकर अँधेरी रात में जेल की ऊँची खिड़की से नीचे बहती नदी के जल में कूद रहा था. घटना वहीं रुक गई.

सोचने लगा- “मेरी बेटी कितनी चंचल और बातूनी है. अभी कुछ पल पहले वह मेरे पैरों के पास बैठी खेल रही थी कि अचानक उसे यह क्या सूझी”.

मिनी के इस काम से मुझे अचरज तो नहीं हुआ पर परेशानी ज़रूर महसूस हुई. मैंने सोचा, “बस अब पीठ पर झोली लिए काबुलीवाला आ खड़ा होगा, मेरा सत्रहवाँ अध्याय अब पूरा नहीं हो सकता”.

ज्यों ही काबुलीवाले ने हँस कर मुँह फेरा और मेरे घर की ओर आने लगा त्यों ही वह घर के अंदर भाग आई. उसके मन में एक झूठा विश्वास था कि काबुलीवाला अपनी झोली में उसी की तरह के दो-चार चुराए गए बच्चे छिपाए रहता है.

Also Read: काबुलीवाला – रवींद्रनाथ टैगोर द्वारा लिखी हिंदी कहानी

इधर काबुलीवाला आकर मुसकुराता हुआ मुझे सलाम करके खड़ा हो गया. आदमी को घर पर बुलाकर कुछ न खरीदना अच्छा नहीं लगता, इसलिए उससे कुछ खरीदा. दो-चार बातें हुई. पता चला, उसका नाम रहमत था.

अंत में उठकर चलते समय उसने पूछा, “बाबू, तुम्हारी लड़की कहाँ गई?”

मैंने मिनी के डर को पूरी तरह खत्म करने के लिए उसे भीतर से बुलवा लिया. वह मुझसे सट कर काबुलीवाले के चेहरे और झोली की ओर शक भरी नज़र से देखती हुई खड़ी रही.

काबुली उसे झोली के अंदर से कुछ सूखे मेवे निकालकर देने लगा पर वह लेने को किसी तरह राजी नहीं हुई. दुगने डर से मेरे घुटने से सटकर रह गई.

कुछ दिन बाद एक दिन सवेरे किसी काम से घर से बाहर जाते समय देखा कि मेरी नन्हीं बेटी दरवाजे के पास बेंच के ऊपर बैठी अपनी बे-सिर-पैर की बातें कर रही है.

काबुलीवाला उसके पैरों के पास बैठा मुसकुराता हुआ सुन रहा है. वह बीच-बीच में मिनी की बातों पर अपनी राय भी बताता जाता है.

मिनी को अपने पाँच साल के जीवन में पिता के अलावा ऐसा धीरज रखकर उसकी बातों को सुननेवाला कभी नहीं मिला था.

मैंने यह भी देखा कि उसका छोटा आँचल बादाम-किशमिश से भरा था. मैंने काबुलीवाले से कहा, “उसे यह सब क्यों दिया? अब फिर मत देना.” मैंने जेब से एक अठन्नी निकाल कर उसको दे दी. काबुलीवाले ने अठन्नी मुझसे लेकर अपने झोले में रख ली.

घर लौटकर आया तो देखा कि उस अठन्नी को लेकर पूरा झगड़ा मचा हुआ है. मिनी की माँ उससे पूछ रही थी, “तुझे यह अठन्नी कहाँ मिली?”

मिनी कह रही थी, “काबुलीवाले ने दी. मैंने माँगी नहीं थी. उसने खुद दे दी.” मैंने मिनी की माँ को समझाया और मिनी को बाहर ले गया. पता चला कि इस दौरान काबुलीवाले ने लगभग रोज़ आकर मिनी को पिस्ता-बादाम देकर उसके नन्हें दिल का विश्वास पा लिया है.

Also Read: काबुलीवाला – रवींद्रनाथ टैगोर द्वारा लिखी हिंदी कहानी

वे आपस में दोस्त बन गए हैं. दोनों में कुछ बँधी हुई बातें और हँसी-मज़ाक चलते. काबुली रहमत को देखते ही मेरी बेटी हँसते हुए पूछती, “काबुलीवाले! तुम्हारी झोली में क्या है?”

रहमत हँसते हए उत्तर देता, “हाथी.” मतलब उसकी झोली में हाथी है. इस बात से दोनों खूब हँसते. उनमें एक और हँसी भरी बात चलती थी. रहमत मिनी से कहता, “मिनी तुम क्या ससुराल कभी नहीं जाओगी?”

ससुराल का मतलब नहीं समझने के कारण मिनी उलट कर पूछती, “तुम ससुराल जाओगे?”

रहमत ससुर के लिए खूब मोटा घूसा तानकर कहता, “मैं ससुर को मारूँगा.”

सुनकर मिनी ‘ससुर’ नाम के किसी अनजाने जीव की पिटी-पिटाई हालत के बारे में सोच कर खूब हँसती.

मुझमें देश-विदेश घूमने की इच्छा है लेकिन अपने कमरे से बाहर निकलते ही घबराहट होने लगती है. इसलिए सुबह अपने कमरे में मेज़ के सामने बैठकर इस काबुली के साथ बातचीत करने से बाहर घूमने का काफ़ी काम हो जाता है.

वह टूटी-फूटी बंगला में अपने देश की बातें कहता है और उसकी तस्वीरें मेरी आँखों के सामने आ जाती हैं. लेकिन मिनी की माँ बहुत शक्की स्वभाव की महिला थी. रहमत काबुलीवाले पर उन्हें भरोसा नहीं था.

उन्होंने मुझसे बार-बार उस पर खास तौर से नज़र रखने के लिए प्रार्थना की. उनके शक को हँस कर उड़ा देने पर उन्होंने कई सवाल किए–’क्या कभी किसी के बच्चे चोरी नहीं जाते? एक लंबे-चौड़े काबुली के लिए एक छोटे से बच्चे को चुरा ले जाना क्या बिलकुल नामुमकिन है?’

मुझे मानना पड़ा कि ये बातें नामुमकिन नहीं हैं लेकिन मैं इस कारण भलेमानस रहमत को घर आने से मना नहीं कर सकता था.

हर वर्ष माघ के महीने के बीचों-बीच रहमत अपने देश चला जाता. इस समय वह अपना सारा उधार रूपया वसूल करने में जुटा रहता. लेकिन फिर भी एक बार वह मिनी से ज़रूर मिल जाता.

जिस दिन सुबह समय नहीं मिलता तो शाम को आ पहुँचता. कभी-कभी अँधेरे कमरे में उसे बैठा देख कर सचमुच भय-सा लगता. लेकिन जब उन दोनों की भोली-भाली बातें सुनता तो हृदय प्रसन्नता से भर उठता.

एक दिन सवेरे मैं अपने कमरे में बैठा पढ़ रहा था. तभी सड़क पर बड़े जोर का हल्ला सुनाई पड़ा. आँख उठाई तो देखा, दो पहरेवाले अपने रहमत को बाँधे लिए आ रहे हैं- उसके पीछे तमाशबीन लड़कों की टोली चली आ रही है.

रहमत के शरीर और कपड़ों पर खून के दाग हैं. एक पहरेवाले के हाथ में खून से सना छुरा है. मैंने बाहर आकर पहरेवालों को रोककर पूछा, ‘मामला क्या है?’

मालूम हुआ कि हमारे एक पड़ोसी ने रामपुरी चादर के लिए रहमत से कुछ रुपया उधार लिया था. उसने झूठ बोलकर रुपया उधार लिया था तथा रूपया देने से इंकार कर दिया और इसी बात को लेकर कहा-सुनी करते-करते रहमत ने उसके छुरा भोंक दिया.

रहमत उस झूठे आदमी को तरह-तरह की गालियाँ दे रहा था. तभी ‘काबुलीवाले! ओ काबुलीवाले!’ पुकारती हुई मिनी घर से बाहर निकल आई.

पलक मारते रहमत का चेहरा आनंद से खिल उठा. उसके कंधे पर आज झोली नहीं थी, इसलिए उसके बारे में कुछ पूछा नहीं जा सकता था. मिनी ने छूटते ही उससे पूछा, “तुम ससुराल जाओगे?”

Also Read: काबुलीवाला – रवींद्रनाथ टैगोर द्वारा लिखी हिंदी कहानी

रहमत ने हँस कर कहा, “वहीं जा रहा हूँ.”

मिनी को उसका जवाब हँसी भरा नहीं लगा, वह हाथ दिखाकर बोला, “ससुर को मारता, पर क्या करूँ हाथ बँधे हैं.”.

छुरा मारने के अपराध में रहमत को कई वर्ष की जेल हो गई. मैं उसकी बात करीब-करीब भूल गया. मिनी भी उसे जल्दी भूल गई.

धीरे-धीरे उसके नए मित्र बनते गए. उम्र बढ़ने के साथ एक-एक करके सखियाँ जुटने लगीं. मेरे साथ भी अब वह पहले जैसी बातचीत नहीं करती. मैंने तो उसके साथ एक प्रकार की कुट्टी कर ली थी.

बहुत सुहावनी सुबह थी. आज मेरे घर में शहनाई बज उठी थी. उसके स्वर मेरे हृदय को अंदर से रुला रहे थे.

मेरी लाड़ली बेटी मुझसे विदा होने जा रही थी. आज मेरी मिनी का विवाह था.

सवेरे से ही विवाह की तैयारियाँ हो रही थीं. मैं बाहर के कमरे में बैठा हिसाब देख रहा था, तभी रहमत आकर सलाम करके खड़ा हो गया.

मैं पहले उसे पहचान नहीं सका. उसके पास न वह झोली थी, न उसके वे लंबे बाल. शरीर भी कमजोर हो गया था. आखिर उसकी हँसी देखकर उसे पहचाना.

मैंने कहा, “क्यों रे रहमत, कब छूटा?” उसने कहा, “कल शाम को जेल से छूटा हूँ.”

बात सुनकर कानों में जैसे खटका हुआ. आज के शुभ दिन यह आदमी यहाँ से चला जाता तो अच्छा होता. मैंने उससे कहा, “आज हमारे घर में एक काम है, मुझे बहुत से काम करने हैं, आज तुम जाओ.” बात सुनते ही वह चल दिया और दरवाज़े पर बोला, “क्या एक बार मुन्नी को नहीं देख सकूँगा”.

शायद उसे विश्वास था मिनी अब भी वैसी ही होगी. नन्हीं-सी बच्ची जो पहले की तरह ही ‘काबुलीवाले’ कहती हुई दौड़ी आएगी, बच्चों जैसी हँसी भरी बातें करेगी. वह पहले की तरह उसके लिए किसी से माँग-चाँग कर एक डिब्बा अँगूर किशमिश-बादाम लाया था.

मैंने कहा, “आज घर में काम है. वह किसी से मिल नहीं सकेगी.” वह दुखी मन से ‘सलाम बाबू’ कहकर दरवाजे के बाहर चला गया.

मुझे अपने मन में न जाने कैसा एक दर्द महसूस हुआ. सोचा, उसे वापस बुलवा लूँ, तभी देखा वह खुद लौटा आ रहा है.

Also Read: काबुलीवाला – रवींद्रनाथ टैगोर द्वारा लिखी हिंदी कहानी

पास आकर बोला, ‘ये अंगूर और थोड़े से किशमिश बादाम मुन्नी के लिए लाया था, दे दीजिएगा.’

उन्हें लेकर जब मैं दाम देने लगा तो वह मेरा हाथ पकड़ कर बोला, “मुझे पैसा मत दीजिए बाबू, जिस तरह तुम्हारी एक लड़की है, उसी तरह देश में मेरी भी एक लडकी है. मैं उसी का चेहरा याद करके तम्हारी मन्नी के लिए थोडी मेवा लेकर आया हूँ, सौदा करने नहीं.”

यह कहते हुए उसने अपने कुर्ते में कहीं छाती के पास से मैले कागज़ का एक टुकड़ा निकाला और बहुत सावधानी से उसकी तह खोलकर मेरी टेबिल पर बिछा दिया.

देखा, कागज़ पर किसी नन्हे हाथ की छाप थी. फोटो नहीं, रंगों से बना चित्र नहीं, प्यारी बिटिया के हाथ में थोड़ी-सी कालिख लगाकर कागज़ के ऊपर उसकी छाप ले ली गई थी.

अपनी प्यारी बिटिया के हाथ की इसी यादगार को सीने से लगाए रहमत कलकत्ते की सड़कों पर मेवा बेचने आता, मानो उस सुंदर, कोमल नन्हीं बच्ची के हाथ की छुअन भर उसके हृदय में अमृत की धारा बहाती रहती.

देखकर मेरी आँखें छलछला आई. उस समय मैंने समझा कि जो वह है, वही मैं हूँ. वह भी पिता है, मैं भी पिता हूँ. मैंने उसी समय मिनी को भीतर से बुलवाया. शादी की लाल साड़ी पहने, माथे पर चंदन लगाए बहू वेश में मिनी लज्जा से मेरे पास आकर खड़ी हो गई.

उसको देखकर काबुलीवाला सकपका गया. अपनी पुरानी बातचीत नहीं जमा पाया. अंत में हँस कर बोला, “मुन्नी, तू ससुराल जाएगी?”.

रहमत का प्रश्न सुनकर लज्जा से लाल होकर मिनी मुँह फेरकर खड़ी हो गई. मुझे काबुलीवाले और मिनी की पहली भेंट याद हो आई और मैं कुछ दुखी हो उठा.

मिनी के चले जाने पर गहरी साँस लेकर रहमत ज़मीन पर बैठ गया. अचानक उसकी समझ में साफ़ आ गया, इस बीच उसकी बेटी भी इसी तरह बड़ी हो गई होगी. इन आठ वर्षों में उस पर क्या बीती होगी, यह भी भला कोई जानता है. उसका चेहरा दुख और चिंता से भर उठा.

मैंने एक नोट निकालकर उसे देते हुए कहा, ‘रहमत, तुम अपनी लड़की के पास अपने देश लौट जाओ. तुम्हारा मिलन-सुख मेरी मिनी का कल्याण करे.’

– रवींद्रनाथ टैगोर

तो उम्मीद करता हूँ कि आपको हमारा यह हिंदी कहानी काबुलीवाला – रवींद्रनाथ टैगोर द्वारा लिखी हिंदी कहानी अच्छा लगा होगा. तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और हमें आप Facebook PageLinkedinInstagram, और Twitter पर follow कर सकते हैं जहाँ से आपको नए पोस्ट के बारे में पता सबसे पहले चलेगा. हमारे साथ बने रहने के लिए आपका धन्यावाद. जय हिन्द.

काबुलीवाला – रवींद्रनाथ टैगोर द्वारा लिखी हिंदी कहानी

Image Source: Wikimedia Commons

Story Source: NCERT Hindi Story Book Class 7

इसे भी पढ़ें

काबुलीवाला – रवींद्रनाथ टैगोर द्वारा लिखी हिंदी कहानी

2 Comments

  1. बहुत ही अच्छी कहानी है।

Leave a Reply