साइटमैप (Sitemap) – SEO

वेबसाइट SEO के इस पोस्ट में हम साइटमैप (Sitemap) के बारे में जानेंगे और हम जानेगे कि वेबसाइट के SEO में साईटमैप की जरुरत क्या है और इसका SEO में कितना महत्व रखता है.

तो चलिए शुरू करते हैं आज का पोस्ट जिसका नाम है- साइटमैप (Sitemap) – SEO और अगर आपको SEO से सम्बंधित ब्लॉग पढने में अच्छा लगता है तो आप इस लिंक पर क्लिक करके और भी पोस्ट पढ़ सकते हैं. (Click Here)

Read: Images & Alt Text SEO

Read: मेटा टैग (Meta Tags) – SEO

साइटमैप (Sitemap) - SEO
साइटमैप (Sitemap) – SEO

साइटमैप क्या है? (What is a Sitemap?)

साइटमैप आपकी साइट के मैप को संदर्भित करता है, जो आपकी साइटों की विस्तृत संरचना जैसे इसके विभिन्न सेक्शनओं और उन्हें जोड़ने वाले लिंक को दिखाता है. साइटमैप की भूमिका यूजर्स और सर्च इंजनों को आपकी साइट पर जानकारी खोजने में मदद करना है और इस प्रकार आपकी साइट की और खोज करना है.

साइटमैप के प्रकार (Types of Sitemap)

साइटमैप एक स्थिर HTML फ़ाइल या XML फ़ाइल हो सकता है. HTML फ़ाइल पर आधारित साइटमैप पारंपरिक साइटमैप हैं. वे साइट के पहले और दूसरे स्तर की संरचना को रेखांकित करने के लिए डिज़ाइन किए गए थे ताकि यूजर साइट पर आसानी से जानकारी प्राप्त कर सकें. ये मुख्य रूप से यूजर्स  से संबंधित हैं.

HTML साइटमैप के लाभ (Advantages of HTML Sitemap)

  • इसमें वेबसाइट का हर पेज शामिल है और यह एक सुव्यवस्थित दैनिक दिनचर्या की तरह है.
  • यह आपकी वेबसाइट के लिए एक वास्तुशिल्प खाका है जो आपके पेजों और उपपेजों के बीच संरचना और कनेक्शन की देखरेख करता है.
  • यह यूजर्स  को आपकी वेबसाइट के प्रमुख क्षेत्रों में नेविगेट करने की अनुमति देता है. यह यूजर्स  को बताता है कि आपकी साइट किस बारे में है.
  • यह सुनिश्चित करता है कि आपकी सामग्री आपके होमपेज से एक या दो क्लिक दूर है, यानी यह आसानी से सुलभ है.
  • यह सर्च इंजन क्रॉलर के काम को सुगम बनाता है क्योंकि एचटीएमएल लिंक वेब को एक्सप्लोर करने के लिए सर्च इंजन को पसंद करते हैं.
  • एक अनुकूलित HTML साइटमैप आपकी वेबसाइट पर एक आधिकारिक पेज के रूप में कार्य करता है जिसमें आपकी साइट के अन्य पेजों के लिंक होते हैं.

दूसरी ओर, एक XML साइटमैप मुख्य रूप से सर्च इंजन के लिए डिज़ाइन किया गया है. इसमें साइट की सभी गतिविधियां शामिल हैं जैसे मुख्य यूआरएल के साथ इसमें मेटा डेटा के साथ अन्य सभी URL भी शामिल हैं. यह यह भी बताता है कि अंतिम बार अपडेट होने पर URL कितना महत्वपूर्ण है, साइट के साथ इसका संबंध आदि.

XML साइटमैप की आवश्यकता (Needed XML sitemap)

एक XML साइटमैप उपयोगी है, यदि:

  • एक वेबसाइट में एक जटिल structure या बहुत सारे internal links होते हैं
  • एक वेबसाइट नई है, या इसमें external links की संख्या कम है
  • एक साइट consistent है और इसमें archived content है

XML साइटमैप बनाते समय ध्यान रखने योग्य बातें

  • ओपनिंग टैग से शुरू करें और क्लोजिंग टैग के साथ खत्म करें
  • टैग के भीतर name space (प्रोटोकॉल मानक) निर्दिष्ट करें
  • पैरेंट XML टैग के रूप में प्रत्येक URL के लिए एक एंट्री शामिल करें
  • प्रत्येक पैरेंट टैग के लिए चाइल्ड एंट्री
  • UTF-8 एन्कोडिंग

XML साइटमैप के लाभ (Benefits of XML Sitemap)

  • यह आपको अपनी साइट से सभी URL सूचीबद्ध करने की अनुमति देता है, जिसमें वे पेज भी शामिल हैं जिन पर आपके पेजों को indexing करते समय सर्च इंजन द्वारा नहीं देखा गया होगा.
  • यह आपको सबसे महत्वपूर्ण पेजों को इंगित करने के लिए अपने XML साइटमैप पर एक टैग जोड़कर अपने पेजों को प्राथमिकता देने की अनुमति देता है. इस प्रकार, आप सर्च इंजन क्रॉलर से अपने प्राथमिकता वाले पेजों को अधिक वरीयता देने के लिए कह सकते हैं.
  • यह आपको सर्च इंजन को अस्थायी जानकारी देने की अनुमति देता है क्योंकि आप सर्च इंजन के साथ अतिरिक्त डेटा साझा करने के लिए दो वैकल्पिक टैग जोड़ सकते हैं ताकि वे आपकी साइट को क्रॉल कर सकें. ऐसा पहला टैग “lastmod” है, जो बताता है कि कोई पेज आखिरी बार कब बदला या अपडेट किया गया; दूसरा, “changefreq” जो बताता है कि किसी पेज के कितनी बार बदलने की संभावना है.

Conclusion

तो उम्मीद करता हूँ कि आपको हमारा यह पोस्ट “साइटमैप (Sitemap) – SEO in Hindi” अच्छा लगा होगा. आप इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और हमें आप Facebook Page, Linkedin, Instagram, और Twitter पर follow कर सकते हैं जहाँ से आपको नए पोस्ट के बारे में पता सबसे पहले चलेगा. हमारे साथ बने रहने के लिए आपका धन्यावाद. जय हिन्द.

इसे भी पढ़े

Leave a Reply

%d bloggers like this: