रक्षा बंधन का इतिहास – परंपरा, रीति रिवाज और महत्व (History of Raksha Bandhan – tradition, customs and importance) | हिंदी में

रक्षा बंधन का इतिहास (History of Raksha Bandhan): रक्षा बंधन या राखी, हिंदू धर्म में भाइयों और बहनों का एक त्योहार है. यह भाइयों और बहनों के बीच प्यार को निर्दिष्ट करता है. यह पुरुषों और महिलाओं के बीच किसी भी भाई-बहन जैसे रिश्ते को मनाने के लिए भी लोकप्रिय. इसे राखी पूर्णिमा या राखी के नाम से भी जाना जाता है. राखी एक डोर है लेकिन इसे सुरक्षा का एक पवित्र माना जाता है जो एक बहन के अपने भाई के लिए प्यार और स्नेह को परिभाषित करता है.

तो आज हम इस पोस्ट में रक्षा बंधन का इतिहास – परंपरा, रीति रिवाज और महत्व (History of Raksha Bandhan – tradition, customs and importance) के बारे में जानेंगे और आपको इसी तरह के पोस्ट पढना अच्छा लगता है तो आप हमारे ब्लॉग पर पढ़ सकते हैं. (पढने के लिए यहाँ क्लिक करें)

रक्षा बंधन का इतिहास (History of Raksha Bandhan)
रक्षा बंधन का इतिहास (History of Raksha Bandhan)

रक्षा बंधन का इतिहास – परंपरा, रीति रिवाज और महत्व (History of Raksha Bandhan – tradition, customs and importance) | हिंदी में

रक्षा बंधन एक हिंदू त्योहार है. यह हिंदू कैलेंडर के अनुसार श्रावण महीने में मनाया जाता है.

इतिहास

इस त्योहार से जुड़े कई मिथक और ऐतिहासिक घटनाएं हैं. भारतीय इतिहास के अनुसार मराठा और राजपूत रानियों ने मुगल बादशाहों को भी राखी भेजी थी ताकि संकट के समय उन्हें मदद और सुरक्षा मिल सके.

रक्षा बंधन का इतिहास (History of Raksha Bandhan)

राखी के मिथक और किंवदंतियाँ

प्राचीन पुराणिक शास्त्रों के अनुसार कहा जाता है कि राजा बलि का गढ़ राखी था. राखी बांधने के समय आमतौर पर एक दोहा गाया जाता है.

“मैं तुम पर राखी बांध रही हूं, जैसे शक्तिशाली राक्षस राजा बलि पर. दृढ़ रहो, हे राखी, लड़खड़ाना मत.”

राखी बुरी ताकतों से अच्छाई की सुरक्षा के सभी पहलुओं का भी प्रतीक है. यह भी एक किंवदंती है कि कृष्ण ने अर्जुन को महाभारत में आने वाली बुराइयों से खुद को बचाने के लिए अपनी कलाई पर राखी बांधने की सलाह दी थी.

रक्षा बंधन का इतिहास (History of Raksha Bandhan)

परंपरा और रीति रिवाज

रक्षा बंधन का यह त्योहार पूरी तरह से भाइयों और बहनों के बीच प्यार और स्नेह को समर्पित है. इस दिन बहनें अपने भाई की लंबी उम्र के लिए प्रार्थना करती हैं और भगवान से संकट की घड़ी में उनकी मदद करने की प्रार्थना करती हैं. बदले में, भाई उन्हें आकर्षक उपहार देते हैं और आजीवन देखभाल करने का वादा भी करते हैं. विभिन्न क्षेत्रों के लोग रक्षा बंधन मनाने के लिए कुछ रीति-रिवाजों और परंपराओं का पालन करते हैं.

महत्व

रक्षा बंधन का इतिहास (History of Raksha Bandhan)

राखी के त्योहार का दुनिया भर में बहुत ही प्रभावशाली महत्व है. यह प्यार और स्नेह का त्योहार है. यह प्यार और सद्भाव फैलाता है और परिवार के सदस्यों को प्यार की एक गांठ में बांधता है. राखी भाइयों और बहनों के बीच प्यार का बंधन है जो उनके बचपन से ही है. यह एक प्राचीन त्योहार है लेकिन भाई-बहनों के बीच प्यार के बंधन को मजबूत करने के लिए लोग इसे बहुत उत्साह के साथ मनाते हैं.

सार्वजनिक जीवन

यह भारत में एक राजपत्रित अवकाश है. इस मौके पर भारत के सभी स्कूल-कॉलेज, सरकारी दफ्तर और प्राइवेट दफ्तर सब भी बंद रहते हैं.

Conclusion

तो उम्मीद करता हूँ कि आपको हमारा यह पोस्ट रक्षा बंधन का इतिहास (History of Raksha Bandhan) अच्छा लगा होगा. आप इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और हमें आप Facebook PageLinkedinInstagram, और Twitter पर follow कर सकते हैं जहाँ से आपको नए पोस्ट के बारे में पता सबसे पहले चलेगा. हमारे साथ बने रहने के लिए आपका धन्यावाद. जय हिन्द.

Image Sources

Pixabay: [1], [2], [3]

इसे भी पढ़ें

Leave a Reply

%d bloggers like this: