Default image

Ritesh Kumar Sinha

रितेश कुमार सिंहा जी को हिंदी की किताबें पढ़ना बहुत ही अच्छा लगता है और कुछ-कुछ कहानी खुद से भी लिखते हैं जो वो हमारे साथ इस ब्लॉग पर शेयर करते रहते हैं. ये हमारे साथ शुरुआत से जुड़े हुए हैं. और ये हमलोगों के सामने कई तरह से कहानी और अलग प्रकार के टॉपिक पर लिखते हैं. इन्होने कंप्यूटर एप्लीकेशन से ग्रेजुएशन किया हुआ है तो ये टेक्निकल ब्लॉग भी शेयर करते हैं.
प्रमाद में पड़े हुए की पहचान | गौतम बुद्ध | हिन्दी कहानी

प्रमाद में पड़े हुए की पहचान | गौतम बुद्ध | हिन्दी कहानी

नमस्कार दोस्तों! आज मैं फिर से आपके सामने हिंदी कहानी “प्रमाद में पड़े हुए की पहचान” लेकर आया हूँ. यह यह कहानी भगवान बुद्ध और भिक्षु संग्राम के बीच एक सवांद से प्रेरित है. इस कहानी में बुद्ध संदेश देते हैं कि कैसे मनुष्य एक कष्ट से मुक्त होकर वह दुसरे कष्ट की ओर जाता है.
Read More
पिता की सीख –डॉ ए० पी० जे० अब्दुल कलाम -हिंदी कहानी

पिता की सीख | डॉ ए० पी० जे० अब्दुल कलाम | हिंदी कहानी

नमस्कार दोस्तों! आज मैं फिर से आपके सामने हिंदी कहानी “पिता की सीख” लेकर आया हूँ. यह कहानी भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ ए० पी० जे० अब्दुल कलाम के जीवन से सम्बंधित हैं.
Read More
कौन सुंदर -हिंदी कहानी

कौन सुंदर | हिंदी कहानी

आपके सामने हिंदी कहानी “कौन सुंदर” लेकर आया हूँ. जलालुद्दीन रूमी कहते हैं, 'रूप -सुंदर होते हुए भी यदि मनुष्य में दोष हैं तो उसका मान नहीं हो सकता.
Read More
एक सुनहली किरण उसे भी दे दो | कीर्ति चौधरी | हिंदी कविता

एक सुनहली किरण उसे भी दे दो | कीर्ति चौधरी | हिंदी कविता

नमस्कार दोस्तों! आज मैं फिर से आपके सामने हिंदी कविता (Hindi Poem) “ एक सुनहली किरण उसे भी दे दो ” लेकर आया हूँ और इस कविता को कीर्ति चौधरी(Kirti Choudhary) जी ने लिखा है.
Read More
स्वरों का समर्पण | श्रीकांत वर्मा | हिंदी कविता

स्वरों का समर्पण | श्रीकांत वर्मा | हिंदी कविता

आपके सामने हिंदी कविता (Hindi Poem) “स्वरों का समर्पण” लेकर आया हूँ और इस कविता को श्रीकांत वर्मा  (18 सितम्बर 1931- 25 मई 1986) जी ने लिखा है. आपका जन्म बिलासपुर छत्तीसगढ़ में हुआ.
Read More